उत्तर प्रदेश एंटी करप्शन पोर्टल: UP Anti-Corruption Bureau Toll Free No, शिकायत हेल्पलाइन नंबर

Anti Corruption Portal 2021 UP | उत्तर प्रदेश एंटी करप्शन पोर्टल – ऑनलाइन शिकायत | Anti Corruption Organisation Helpline Number Uttar Pradesh | एंटी करप्शन ब्यूरो टोल फ्री शिकायत हेल्पलाइन नंबर

उत्तर प्रदेश राज्य सरकार द्वारा यहाँ के निवासियों के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा नौकरशाहों और सरकारी अफसरों पर नकेल कसने के लिए एंटी करप्शन पोर्टल का शुभारंभ किया है। इस पोर्टल के द्वारा जो भी नौकरशाहों और कर्मचारियों हैं उनकी शिकायत सीधे सरकार से की जा सकती है। इस कदम से आम लोगों को बहुत फायदा मिलेगा और भ्रष्ट नौकरशाहों और कर्मचारियों की सीधी शिकायत हो पायेगी। इससे प्रदेश में इ-गोवर्नेंस को भी बल मिलेगा। इस मुहीम का उद्देश्य लोगों को भ्रष्टाचार निवारण संगठन उत्तर प्रदेश के प्रति जागरूक करना है। Uttar Pradesh Anti Corruption Portal के माध्यम से नागरिक अब घर बैठे ही ऑनलाइन शिकायत दर्ज करा सकते हैं।

Uttar Pradesh Anti Corruption Portal In Hindi

Uttar Pradesh Anti Corruption Portal

उत्तर प्रदेश एंटी करप्शन पोर्टल को लॉन्च करते ही इसका फायदा नजर आया और पहले दिन ही किसी आम आदमी ने एक वीडियो भेजा  इसके फलस्वरूप 24 घंटे के भीतर ही गाजीपुर जिले के मरदह थाने के इंस्पेक्टर अरुण कुमार को अपनी नौकरी छोड़नी पड़ी। यदि इसी  प्रकार से सब होता रहा तो इससे लोगों को बहुत राहत मिलेगी। जैसे अभी कोई भी सरकारी काम करवाना हो तो अफसरों के पीछे लगे रहना पड़ता है और उसके बाद में पैसे देने पड़ते हैं। परन्तु इस एंटी करप्शन विभाग की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर आम नागरिक भ्रष्टाचार की शिकायत आसानी से दर्ज करा सकता है। यहाँ हम आपको इस लेख के माध्यम से UP Anti-Corruption Portal – Toll Free Helpline Number की पूरी जानकारी प्रदान कर रहें हैं। कृपया आगे पढ़ना जारी रखें।

सीएम योगी हेल्पलाइन पोर्टल और टोल-फ्री नंबर

यूपी एंटी करप्शन पोर्टल/ ब्यूरो टोल फ्री नंबर

जनसुनवाई/ समाधान पोर्टल – उत्तर प्रदेश के भोले-भाले आम आदमी जिसे की छोटे से काम के लिए बार बार सरकारी दफ्तर के चककर काटने पड़ते हैं और उसके बावजूद भी भ्रष्टाचार के कारण पैसे भी देने पड़ते हैं ऐसे में यूपी के आदरणीय मुख्यमंत्री जी ने लोगों को इंसाफ दिलाने के लिए एंटी करप्शन वेबसाइट का सुभारम्भ किया है इसका फायदा ये हुआ है एक पहले ही साल में लगभग 199 भ्रष्ट ऑफिसरों को अपनी नौकरी छोड़ने पड़ी है और कई अफसर जेल गए हैं, और लगभग 450 अधिकारिओं के ऊपर कड़ी कारवाही हुई है। इससे योगी सरकार ने ये प्रूफ करने की कोशिश की है की ये पोर्टल केवल दिखने के लिए नहीं बना है बल्कि इसमें कारवाही भी कड़ी से कड़ी होगी और इससे देखके बहुत से अधिकारीयों में डर के कारण सही काम करने की समझ आएगी।

Uttar Pradesh Anti Corruption Portal 2021 Highlights
योजना का नाम उत्तर प्रदेश एंटी करप्शन पोर्टल-जनसुनवाई
शुरू किया गया मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी द्वारा
उद्देश्य राज्य में भ्रष्टाचार को कम करना व आमजनों की शिकायत का निवारण करना
लाभार्थी यूपी के नागरिक
लाभ सभी समस्याओं का ऑनलाइन समाधान
हेल्पलाइन नंबर 1076 / 09450966551
ऑफिसियल पोर्टल http://jansunwai.up.nic.in/
लेख श्रेणी राज्य सरकार योजना

यू पी एंटी करप्शन पोर्टल पर ऑनलाइन शिकायत कैसे करें?

  1. Uttar Pradesh Anti Corruption Portal में ऑनलाइन शिकायत दर्ज कराने के लिए आपको सबसे पहले आधिकारिक वेबसाइट http://jansunwai.up.nic.in/ में जाना होगा।
  2. इसके पश्चात साइट पर क्लिक करने के बाद, एंटी करप्शन पोर्टल पर क्लिक करिए जैसा नीचे दिखाया गया है:Uttar Pradesh Anti Corruption Portal Jansunwai
  3. फिर रजिस्ट्रेशन का विकल्प आएगा तो आप उसमे पूछी गई सभी जानकारी ध्यानपूर्वक भरें।
  4. इसके पश्चात एंटी करप्शन ब्यूरो पोर्टल पर सम्बंधित शिकायत का प्रूफ जैसे ऑडियो या वीडियो अपलोड करें।
  5. अंत में सबमिट बटन पर क्लिक करके अपने कंप्लेंट दर्ज करें। इस तरह से अब आम आदमी भी एंटी करप्शन पोर्टल पर अपनी ऑनलाइन शिकायत लॉज कर सकते हैं।

उत्तर प्रदेश एंटी करप्शन पोर्टल शिकायत की स्थिति देखने की प्रक्रिया

Uttar Pradesh Anti Corruption Portal- Check Complaint Status – जिस तरह हमने अपनी शिकायत के लिए रजिस्टर किया उसी तरह इस वेबसाइट http://jansunwai.up.nic.in/ में जाके आप अपनी शिकायत की स्तिथि भी जान सकते हैं। जिससे आपको ये पता लगेगा की कितनो दिनों बाद आपकी शिकायत पर कार्यवाही होगी

UP-Jansunwai-Potal-Track-Complaint-Status

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा यहाँ के निवासियों से एंटी करप्शन पोर्टल के लिए सुझाव भी मांगे हैं और ये आप कभी भी दे सकते हैं इसके लिए भी आप इसकी अधिकारिक वेबसाइट में जा कर फॉर्म भर सकते हैं।

यूपी जनसुनवाई शिकायत निवारण कैसे देखें?

UP Jansunwai Portal Grievance Status – अगर किसी भी व्यक्ति ने अपनी ऑनलाइन शिकायत दर्ज करवाई है और समय पर उस पर कोई कार्यवाही नहीं की गयी है तो आप नीचे दिए दिए तरीके का पालन कर सकते।

  1. अगर आपकी शिकायत का निवारण नहीं किया गया है, तो आप सीधे मुख्यमंत्री को अनुस्मारक भेज सकते है।
  2. जिसके लिए आपको “Official Website” पर जाना होगा।
  3. आधिकारिक वेबसाइट पर जाने के बाद, आपका होम पेज खुल जायेगा।
  4. इसके बाद, आपको “Send Reminder” के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  5. फिर यहां पूछी गयी सभी जानकरी भरकर आप अनुस्मारक भेज सकते है।
जनसुनवाई मोबाइल ऐप (App) डाउनलोड कैसे करें?

How to Download Jansunwai Mobile Application (APK) – यूपी जनसुनवाई मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए आपको कुछ आसान से चरणों का पालन करना होगा। जो निम्न प्रकार से हैं:

  • जनसुनवाई मोबाइल ऍप डाउनलोड करने के लिए आपको अपने फ़ोन पर “Google Play” स्टोर पर जाना होगा।
  • इसके बाद, गूगल प्ले पर जनसुनवाई डालकर Search करे। सर्च करने के बाद, मोबाइल एप्लीकशन दिखाई देगी।
  • फिर “Install” के बटन पर क्लिक करे। इसके बाद, आपका “Jansunwai Mobile App” डाउनलोड हो जायेगा।
  • फिर App को Open करे और आप जनसुनवाई पोर्टल की सारी सुविधाएं ऍप पर ही ले पाएंगे।

Note – ऊपर दिए लिंक की मदद से आप Jansunwai App Download कर सकते हैं। मोबाइल गवर्नेंस के दृष्टिगत जनसुनवाई एंड्राइड मोबाइल ऐप का निर्माण किया गया है I इस मोबाइल ऐप का उपयोग कर नागरिक आसानी से किसी भी समय अपनी शिकायत को दर्ज एवं ट्रैक कर सकते हैं I विभागीय अधिकारी भी उनको प्रेषित शिकायतों को आसानी से देख सकते है एवं उनके निस्तारण हेतु कार्यवाही कर सकते हैं I

यूपी जनसुनवाई पोर्टल प्रवासी श्रमिक ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन

UP Jansunwai Portal Migrant Workers Online Registration – देश की अन्य राज्य सरकारों की तरह उत्तर प्रदेश सरकार ने भी अपने राज्य के प्रवासी निवासियों एवं प्रदेश में रहने वाले अन्य राज्यों के प्रवासी निवासियों की घर वापसी के लिए एक पोर्टल की शुरुआत कर दी हैं। जिसका नाम ‘जनसुनवाई पोर्टल’ है। इस पर प्रवासी श्रमिक/मजदूर खुद का पंजीकृत करके अपने घर वापस जा सकते हैं। इसके साथ ही यूपी सरकार ने जनसुनवाई पोर्टल का एक मोबाइल एप्प भी शुरू किया हैं। इसके माध्यम से भी ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन किया जा सकता है। कुछ समय पहले योगी सरकार द्वारा ‘प्रवासी श्रमिक हेल्पलाइन नंबर’ भी जारी किये गये थे।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs)

Uttar Pradesh Anti Corruption Portal के तहत अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न निम्नलिखित है।

  1. मुख्यमंत्री योगी जी का मोबाइल नंबर क्या है?
    उत्तर प्रदेश के माननीय मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी के घर के और ऑफिस के सारे हेल्पलाइन नंबर देखने के लिए इस लिंक CM Yogi Helpline Number पर क्लिक करें। यदि आप योगी आदित्यनाथ से बात करना चाहते हैं, तो आप उन्हें उनके निवास या अपने कार्यालय में सम्पर्क का प्रयास कर सकते हैं। Yogi Adityanath Whatsapp No अभी उपलब्ध नहीं है।
  2. यूपी के मुख्यमंत्री को पत्र भेजने का पता क्या है?
    यदि आप पत्र के माध्यम से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी को संपर्क करना चाहते हैं, तो उनके गोरखपुर वाले पता या दिल्ली वाले स्थाई पते, या उनके लखनऊ वाले आवास पर भी पत्र भेज सकते हैं।
  3. योगी आदित्यनाथ से मिलने का समय क्या है?
    कोरोनावायरस COVID-19 के कारण योगी जी बहुत ही व्यस्त चल रहे हैं, पर आप उन्हें गोरखपुर मंदिर में भी मिल सकते हैं। वहां वह जनता के लिए हर हफ्ते कुछ घंटों का समय निकालते हैं, या आप सीएम आवास में जाकर भी उन्हें मिल सकते हैं।
  4. योगी के पीए का नंबर क्या है?
    यदि आप मुख्यमंत्री योगी जी के पीए का नंबर ढूंढ रहे हैं, तो आप उनके सचिवालय में संपर्क कर सकते हैं।
  5. मुख्यमंत्री कार्यालय उत्तर प्रदेश का पता बताएं?
    उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के कार्यालय का पता नीचे दिया है:
    Lal Bahadur Shastri Bhawan, Lucknow-226001
    Phone +91-522-2239296,2236167 Fax +91-522-2239234

Pravasi Shramik Ghar Wapsi Yojna Online Panjiyan

यह भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश सरकारी योजनाओं की सूची और ताज़ा खबरें 2021-22

RM-Helpline-Team

6 thoughts on “उत्तर प्रदेश एंटी करप्शन पोर्टल: UP Anti-Corruption Bureau Toll Free No, शिकायत हेल्पलाइन नंबर”

  1. santi devi
    reg-318410103132
    vidwa pension nhi aye h
    jila -hapur; village – dattiyana
    thesil- garhmukteswar

  2. श्री मान सीएम महोदय , मै कमलापुर डिस्टिक सीतापुर की रहने वाली हूँ , मेरे दादाजी की मानसिक स्थित सही न होने के कारण मेरे पापा से छोटे अंकल कमलेश कुमार गुप्ता ने २०१५ में तहसील सिधौली में पूरी प्रॉपर्टी की रजिस्ट्री करवा ली थी , ये बात मेरे बाकी के तीनो अंकल सुरेश कुमार , राकेश कुमार,प्रदीप कुमार को पता नहीं थी , दादाजी की तबियत सही न होने की वजह से उनकी डेथ हो गयी। दादाजी की डेथ के बाद जब अंकल लोग लड़ाई करने के करने लगे तो पापा ने बोला की ठीक है जो है बराबर ले लो लड़ाई क्या करना,तो अंकल लोगो ने बोला की आपका यहाँ कुछ नही है पिताजी ने वसीयत कर दी है आप लोग घर खली कर दो वार्ना अच्छा नहीं होगा। सर इस बात से पापा काफी दर गए तो उन्होंने कमलापुर थाने में भी शिकायत दर्ज कराई पर पुलिस ने कुछ नहीं किया बल्कि पापा को ही डरा धमका कर एक स्टाम्प में लिखवा दिया की बोलो हम इस घर में किराये से रहने आये थे और दो महीने में घर खली कर देंगे। सर जब पापा काफी परेशां हो गए तो उन्होंने सीतापुर हाई कोर्ट में वसीयत पर मुकदमा कर दिया सर जैसे ही मुक़दमे की नोटिस आयी तो घर में किसी के न होने पर मेरी सबसे छोटी आंटी ने लॉक लगा दिया सर ये बात पिछले २३/१०/२०२० की है उसदिन सर हम लोग रात भर घर के बाहर बैठे रहे थाने भी गए पर पुलिस ने एक न सुनी सर ऐसी कोई जगह नहीं थी जहा हम लोगो ने मदद न मांगी हो पर किसी ने नहीं सुनी सर पुलिस के पास जाओ तो पुलिस ये बोलती है की कोर्ट का मैटर है हम कुछ नहीं कर सकते। पर सर तो आप ही बताईये हम लोग क्या करे सर एक साल से हम लोग भटक रहे है कुछ समझ नहीं आ रहा है की क्या करू सर हम लोगो का सारा सामन घर में बंद है अंकल आंटी रह रहे हैं पर हम लोगो को जाने नहीं देते। सर पडोसी भी उनकी सुन्ना पसंद करते है क्युकी जानते हैं उनके पास पैसा और पावर दोनों है। सर हम लोग काफी मजबूर है। सर प्लीज हम लोगो की मदत करिये आप का ही सहारा है। सर आप तीनो अंकल आपस में मिल कर हम लोगो को परेशान करते हैं। क्युकी उस वसीयत में उन तीनो का नाम है बाकी किसी का नहीं। सर अंकल लोग बोलते है पापा का बटवारा हो गया है तो सर कोई पेपर क्यों नहीं दिखता पापा के बटवारे का सर मेरे तीनो अंकल कमलेश कुमार गुप्ता,राकेश कुमार गुप्ता, और प्रदीप कुमार गुप्ता, और तीनो की पत्नी क्रमश लछमि गुप्ता, मधु गुप्ता ,और पूजा गुप्ता मम्मी पापा मैं और मेरी छोटी सिस्टर सब को बहोत परेशां करते है और गांव के प्रधान के साथ मिलकर मारने की धमकी देते है सर प्लीज हेल्प मी सर आपसे हाँथ जोड़कर विनती है हमें हमारा हक़ दिलाया जाये आपकी बहुत बड़ी कृपा होगी। आपकी बेटी सोनी गुप्ता कमलापुर सीतापुर।

  3. राजकुमार सक्सैना

    सेवा में,,,,,,,,,,, आदरणीय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ महोदय जी प्रणाम लखनऊ,,,,। विषय,,,,,,,,,,,,, जांच हेतु प्राथी द्वारा काफी समय से आज तक दिये गये शिकायती प्रार्थना पत्रों में एक दूसरे विभागों टालने हेतु एवं जांच कर उचित कार्रवाई कर स्पष्टीकरण के आधार पर न्याय एवं आर्थिक सहायताप्राप्त नहीं दे पाने के सन्दर्भ में,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,, आदरणीय महोदय जी दिनांक 28,06,2021,को कार्यालय में प्रार्थना पत्र दिया था जिसकी संख्या 20020121005917, इसी शिकायती पत्र संख्या के रिमांडर की पोर्टल संख्या400201210061490इन, सन्दर्भ संख्याओं में भी पूर्व की भांति किसी अन्य व्यक्तियों का निस्तारण प्राथी के निस्तारण में देते हुए चले आ रहे हैं इस के बाद दिनांक 04,, 09,,2021,को दिन शनिवार तहसील दिवस में प्रार्थना पत्र दिया था किसी का भी कोई उचित निस्तारण पारदर्शिता एवं स्पष्टीकरण के आधार पर नहीं प्राप्त हो सका इसके अलावा आदरणीय मुख्यमंत्री योगी दरबार लखनऊ के यहां पर दिनांक 20,09,2021,को प्रार्थना पत्र दिया था जिसकी संदर्भ संख्या 15201210061490, कोई निष्कर्ष नहीं निकाल पाया है इस लिए सरकार से प्रार्थना करते हैं कि अपने स्तर से किसी भी तरह जांच के बाद निजता के मूल अधिकारों एवं मालिकाना हक़ के आधार पर अन्यथा प्राथी की सम्पत्ति को सरकार के लिए नामांकन कर दिया जाय एवं हैसियत के मुताबिक आर्थिक सहायता आत्मनिर्भरता हेतु दिलाने की कृपा कर अनुग्रहित करें धन्यवाद आपका,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,। प्राथी वरिष्ठ नागरिक मोजूदा निवासी बरदधाश्रम समाज कल्याण विभाग एटा,,,, मोबाइल नम्बर 95 48633518

  4. नाम चंद्रप्रकाश तिवारी

    श्री माननीय आदित्य योगी नाथ जी से निवेदन है कि हम हीरामनपुर के रहने वाले हैं और हमारी जमीन एक पटेल हड़प रखा है 15 साल से वह दे नहीं रहा है किशोरी सिंह पटेल नाम है जिला प्रयागराज पोस्ट प्रतापपुर थाना सराये अमरेज तहसील हडिया और पिता का नाम श्री विष्णु कांत तिवारी है और मेरा नाम चंद्र प्रकाश तिवारी है

  5. SUSHANT KUMAR SINGH SINGH

    सेवा में,,,,,,,,,,, आदरणीय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ महोदय जी प्रणाम लखनऊ,,,,बिषय बाबा जी हम आप से मुलाकात करने की कृपा करे हमे सर 10 मिनट का समय देने की कृपा करे मै सुल्तानपुर से हू श्रीमान जी आप से बिन्रम निवेदन है सर हमे सर मिलने का टाईम दे हम आप से मुलाकात करना चाहते है धन्यवाद सर

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top