MP E Uparjan 2020 | किसान ऑनलाइन पंजीयन, mpeuparjan.nic.in Portal

mpeuparjan.nic.in Portal | MP E Uparjan 2020 Apply Online | एमपी ई उपार्जन पोर्टल | ई उपार्जन पोर्टल पर पंजीकरण | MP E Uparjan Portal

MP-E-Uparjan-Kisan-Online-Panjiyan-In-Hindi
MP-E-Uparjan-Kisan-Online-Panjiyan-In-Hindi

एमपी ई उपार्जन पोर्टल : नमस्कार दोस्तों, आज हम आपको इस लेख के माध्यम से “एमपी ई-उपार्जन किसान ऑनलाइन पंजीयन- रबी खरीद हेतु” की जानकारी देंगे। यदि किसानों को इस रबी सीजन में अपनी कृषि उपज यानि गेहूँ को एमएसपी (MSP) यानि न्यूनतम समर्थन मूल्य पर सरकार को बेचना हैं, तो इसके लिए सरकार ने एक ऑनलाइन पोर्टल शुरू किया हैं। जिसका नाम है मध्यप्रदेश ई-उपार्जन पोर्टल। इस आधिकारिक पोर्टल पर किसान ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कर, दी गई निर्धारित तिथि में अपनी कृषि उपज को बेचने के लिए सक्षम होंगे।

मध्यप्रदेश ई-उपार्जन पोर्टल में किसान रबी फसल के लिए ऑनलाइन पंजीयन फॉर्म भर सकते है। इसके साथ ही अपनी फसल की न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) 2020-21 सूची भी देख सकते हैं। नीचे हम आपको MP E Uparjan 2020- 21 की पूरी जानकारी प्रदान कर रहे हैं। कृपया इसके लिए पूरा आर्टिकल अंत तक ध्यानपूर्वक पढ़ें।

Contents

एमपी ई उपार्जन पोर्टल 2020-21

प्रदेश में गेहूं का रकबा इस बार लगभग 20 लाख हेक्टेयर बढ़कर 80 लाख हेक्टेयर हो गया है। गत वर्ष यह 60 लाख हेक्टेयर था। उत्पादन भी बंपर होने की संभावना है। इसे देखते हुए 100 लाख मीट्रिक टन से ज्यादा गेहूं खरीदी की तैयारी की जा रही है। हालांकि, गोदाम पहले से ही भरे होने की वजह से सरकार ने लगभग 30 लाख मीट्रिक टन क्षमता के ओपन केप बनाकर भंडारण की व्यवस्था बनाने की रणनीति बनाई है।

खाद्य विभाग के अधिकारियों ने बताया कि MP E Uparjan 2020- 21 पर पहले से पंजीकृत किसानों को पोर्टल पर जाकर अपने रिकॉर्ड में उपज बेचने की तीन संभावित तारीख और विक्रय की मात्रा की जानकारी दर्ज करनी होगी। नये किसानों को बैंक खाता, मोबाइल नम्बर, खेती का रकबा बताना होगा। किसान के रकबे की पुष्टि राजस्व विभाग द्वारा गिरदावरी एप में दर्ज रिकॉर्ड से होगी। इसको लेकर किसान यदि आपत्ति उठाता है तो उसका निराकरण राजस्व विभाग से संपर्क करके करना होगा। संतुष्ट होने के बाद ही पंजीयन प्रक्रिया पूरी होगी।

ई उपार्जन पोर्टल किसान ऑनलाइन पंजीयन

एमपी ई उपार्जन पोर्टल में धान खरीदी हेतु किसान पंजीयन  (e-panjiyan mp) के लिए कुछ आवश्यक निर्देश जारी किये गए है। जो निम्न प्रकार से हैं:

  • किसान अपना पंजीयन आधार नंबर एवं समग्र आईडी के आधार पर कर सकते है।
  • पंजीयन के लिए आधार अथवा समग्र आई डी का होना अनिवार्य है।
  • किसान अपनी परिवार समग्र आई डी से भी सदस्य समग्र आई डी खोज सकते है।
  • पंजीकरण फॉर्म में बैंक खाता क्रमांक पासबुक मे से देख कर सही प्रविष्ट करें।
  • यदि आधार नंबर लोड नहीं हो रहा हो तो समग्र आई डी से अपना पंजीयन करें।
  • पंजीयन के पश्चात्, पावती प्रिंट करें तथा खरीदी के समय पावती ले जाना अनिवार्य है।
  • एमपी ई उपार्जन ऑनलाइन पंजीकरण के लिए मोबाइल नंबर होना अनिवार्य है।

Important Points Of MP E Uparjan 2020-21

मध्य प्रदेश राज्य में रबी उत्थान के लिए शुरुआती तिथि 15 अप्रैल 2020 तय की गई है। मध्यप्रदेश सरकार ने गेहूँ खरीद केन्द्रों की संख्या में वृद्धि भी की है, ताकि किसानों को गेहूँ बेचने में ज्यादा परेशानी न हो और साथ ही इन सभी खरीद केन्द्रों पर प्रत्येक किसान कोरोना वायरस के प्रकोप से बचने के लिए सामाजिक दूरी को फॉलो करे, यह भी सुनिश्चित किया गया है। सरकार ने गेहूँ की फसल के लिए एमएसपी 1925 रूपये प्रति क्विंटल तय किया है।

Key Features of MP e-Uparjan Kisan Online Panjiyan 2020:
योजना का नाम  एमपी ई उपार्जन
वित्तीय वर्ष 2020-21
शुरुआत की गयी 15 अप्रैल 2020
गेंहू का उचित मूल्य  1925 रुपये प्रति क्विंटल
हेल्पलाइन नंबर  181
आधिकारिक वैबसाइट  http://mpeuparjan.nic.in/
श्रेणी राज्य सरकार योजना

मध्य प्रदेश ई उपार्जन पोर्टल 2020-21 जरुरी दस्तावेज-

Documents – MP e-Uparjan Portal Online ऑनलाइन पंजीयन करने के लिए आपके पास निम्नलिखित दस्तावेजों का होना आवश्यक है।

किसान की समग्र आईडी एमपी का निवास प्रमाण पत्र
किसान का आधार कार्ड बैंक पासबुक
ऋणपुस्तिका जमीन का खसरा

 

MP E Uparjan 2020- 21 का उद्देश्य

मध्य प्रदेश ई उपार्जन पोर्टल 2020-21: मध्य प्रदेश के किसान भाई जल्द से जल्द e-Uparjan Portal Madhya Pradesh पर ऑनलाइन पंजीयन करा लें। पिछली बार की तरह इस बार भी ऑनलाइन पंजीयन के पश्चात ही धान खरीदी की प्रक्रिया होगी। लेकिन इस वर्ष ऑनलाइन पंजीयन में कुछ बदलाव किया गया है। जिसे जानने के लिए आपको हमारा यह आर्टिकल ध्यानपूर्वक पढ़ना होगा।

जैसा की आप जानते ही हैं। की पिछले वर्ष तक e-Uparjan Portal पर ऑनलाइन पंजीयन केवल कृषि उपज मंडी के माध्यम से होता था। जिसके लिए आप सभी को बहुत अधिक परेशानियों का सामना करना पड़ता था। लेकिन इस बार भी प्रक्रिया ऑनलाइन ही रहेगी। लेकिन आप किसी भी कंप्यूटर सेंटर से धान खरीदी हेतु एमपी ई उपार्जन पोर्टल पर ई प्रोक्योरमेंट पोर्टल पंजीकरण करा सकते हैं। हो सके तो आप या आपके घर का कोई सदस्य जो कंप्यूटर या इंटरनेट चलाना जनता हो उससे भी घर बैठे करा सकते हैं।

 एमपी ई उपार्जन किसान पंजीकरण 2020-21 

MP e-Uparjan Kisan Online Registration  – मध्य प्रदेश ई-उपार्जन रबी गेहूँ 2020-21 के लिए किसान निम्न प्रक्रिया के माध्यम से ऑनलाइन आवेदन/पंजीकरण फॉर्म भर सकते हैं, e uparjan form pdf download करने की जरूरत नहीं है, यह सारी  प्रक्रिया ऑनलाइन उपलभ्ध है, जिसकी जानकारी नीचे दी गई है। :

  • सबसे पहले किसान भाइयों को मप्र ई-उपार्जन पोर्टल की अधिकारिक वेबसाइट http://mpeuparjan.nic.in/ पर जाइये।
  • इसके बाद, किसान इसके होमपेज में पहुंचेंगे, जहां उन्हें ‘खरीफ उपार्जन 2020-21 किसान पंजीयन आवेदन’ करके एक बॉक्स दिखाई देगा। उसमें कई सारे विकल्प दिए हुए होंगे, उसमें से ‘ खरीफ उपार्जन 2020-21 किसान पंजीयन आवेदन  वाले लिंक पर क्लिक कर दे।

  • जिसके बाद, किसान अगले वेब पेज में पहुँचेंगे, जहां पर उन्हें  रजिस्टर न्यू   लिंक पर क्लिक करना होगा।

  • इससे उनकी स्क्रीन पर एक अलग पेज में रजिस्ट्रेशन फॉर्म ओपन होगा। जिसमें किसान को आवेदन / किसान कोड या मोबाइल नंबर या समग्र नंबर आदि में से किसी एक का चयन करके वह नंबर दर्ज करना होगा।
  • इसके बाद, आवेदक किसान पंजीकरण प्रक्रिया को पूरा करने के लिए ‘सबमिट’ बटन पर क्लिक कर सकते हैं।

अंत में किसान के मोबाइल नंबर पर एक SMS भेजा जाएगा, जिसमें उन्हें किस तिथि पर मंडियों में अपनी कृषि उपज यानि गेहूँ को बेचना है, की जानकारी दी हुई होगी। उस तिथि में किसान अपनी गेहूँ की फसल रबी सीजन के लिए बेच सकेंगे और उचित भुगतान प्राप्त कर सकेंगे।

एमपी ई उपार्जन आवेदन स्थिति कैसे जाने?

  • फिर आपको एक नया पेज दिखेगा, इसमें आपको अपना एप्लीकेशन नंबर दर्ज करना है।
  • दर्ज करने के बाद सर्च के बटन पर क्लिक करें।
  • इस प्रक्रिया से आप पाने आवेदन स्थिति ऑनलाइन देख पाएंगे।

किसान पंजीयन आवेदन में अन्य खसरा जोड़ने की प्रक्रिया

  • अब आप “किसान पंजीयन आवेदन में अन्य खसरा जोड़ने के लिए यहाँ क्लिक करे” वाले लिंक पर क्लिक करें, क्लिक करते ही एक फॉर्म खुलकर आ जायेगा। इस फॉर्म में बहुत सी जरूरी जानकारियां पूछी गई हैं, इंसबको सबको ध्यानपूर्वक भरें, जानकरियों में ,मोबाइल नंबर ,किसान का नाम ,समग्र सदस्य आईडी , किसान की बैंक सम्बन्धी जानकारी आदि पूछी जाती हैं।
  • सब भरने के बाद कृपया सर्च के बटन पर क्लिक करें। इस प्रक्रिया से आप तरह किसान पंजीयन आवेदन में अन्य खसरा जुड़ जायेगा।

पावती पर्ची प्राप्त करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आप ई उपार्जन की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाएं। अब आपके सामने आधिकारिक वेबसाइट का मुख्या पृष्ठ खुल जायेगा।
  • आप अब इस पेज पर खरीफ 2020-21 के विकल्प मिलेगा इस लिंक पर क्लिक करें। क्लिक करते ही एक नया पेज खुलेगा।
  • इस नए पेज में खरीफ़ उपार्जन वर्ष 2020-21 हेतु किसान पंजीयन आवेदन दिखेगा इसपर क्लिक करें। अब आप इस विकल्प पर क्लिक करें। क्लिक करते ही वेबसाइट पर नया पेज खुलेगा, जिसमें की पावती पर्ची प्राप्त करे का विकल्प दिखाई देगा।
  • अब जैसे ही आप लिंक को क्लिक करोगे, आपके सामने वेबसाइट का नया पेज खुलजाएगा, आप यहाँ आपको एक फॉर्म दिखेगा, इसमें पूछी गई जानकारिया सावधानीपूर्वक भरें।
  • जानकारियां दर्ज करने के बाद आप किसान सर्च करे के बटन पर क्लिक करें। इस प्रकार से आपको पावती पर्ची प्राप्त हो जाएगी, आप ऐसे संभलके रखें या पावती प्रिंट करें ।

किसान कोड से पंजीयन सम्बंधित जानकारी प्राप्त करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आप ई उपार्जन की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाएं। अब आपके सामने आधिकारिक वेबसाइट का मुख्या पृष्ठ खुल जायेगा।
  • आप अब इस पेज पर खरीफ 2020-21 / रबी 2020-21 के विकल्प मिलेगा इस लिंक पर क्लिक करें। क्लिक करते ही एक नया पेज खुलेगा।
  • इस नए पेज में किसान कोड से पंजीयन सम्बंधित जानकारी प्राप्त करेदिखेगा इसपर क्लिक करें।
  • क्लिक करते ही आपके सामने एक पॉप-उप पेज ओपन होगा, जिसकी फोटो नीचे दी गई है, अब इस पेज में जानकारियां दर्ज करनी हैं जैसे की:-
    • आवेदन/किसान कोड
    • मोबाइल नंबर
    • समग्र न.
  • ऊपर गई साडी जानकारी सावधानीपूर्वक भरने के बाद आपको कॅप्टच कोड को दर्ज करके “किसान सर्च करे” बटन पर क्लिक करना होगा।
  • इस प्रकार से आप वेबसाइट पर रवि 2020-21 सीजन के लिए किसान पंजीयन ऑनलाइन देख सकते हैं।
मप्र ई-उपार्जन पोर्टल 2020-21 में उचित एमएसपी पर गेहूँ की प्राप्ति-

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अधिकारिक तौर पर ट्वीट करते हुए मंडियों में किसानों से रबी फसलों की खरीद की अधिकारिक घोषणा की है। किसानों की खरीद में सहायता करने के लिए गेहूँ के खरीद केंद्रों की कुल संख्या को भी बढ़ाया गया है और यह सलाह दी गई है कि यदि कोई किसान किसी बीमारी से पीढित है या बहुत बुजुर्ग है तो वह इस खरीद केंद्र में नहीं आयें। इसके अलावा हर एक किसान को गेंहू की खरीद उसी तिथि पर करनी आवश्यक है, जो उसे दी गई है।

MP E Uparjan 2020- 21 मोबाइल एप्प डाउनलोड करें-

Download MP E-Uparjan Mobile App – मध्यप्रदेश ई-उपार्जन मोबाइल एप्प के माध्यम से भी किसान खुद को गेहूँ की खरीद के लिए रजिस्टर्ड कर सकते है। इस एप्प को डाउनलोड करने के लिए किसानों को ई-उपार्जन पोर्टल की अधिकारिक वेबसाइट पर ही जाना होगा। यहाँ किसान को ऊपर दिए बॉक्स में ‘ई – उपार्जन किसान मोबाइल एप्प’ करके लिंक दिखाई देगा। उस लिंक पर क्लिक करके किसान Mobile App डाउनलोड कर सकता है।

इसके बाद, किसान भाइयों को अपने समग्र आईडी और मोबाइल नंबर डालकर ‘डाउनलोड लिंक प्राप्त करें’ बटन पर क्लिक करने के लिए कहा जाएगा। यहां से वे एप्प को अपने स्मार्टफोन में डाउनलोड कर लें और इसे इनस्टॉल करके खुद को इसमें एक किसान के तौर पर ‘Register’ करें। इसके बाद, वे वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए गेहूँ को बिक्री कर सकते हैं।

किसान कोड कैसे प्राप्त करें

mp e uparjan kisan code:
अपना पंजीयन कैसे देखें या एमपी में किसान कोड ऑनलाइन कैसे निकालें, इस तरह की परेशानियां अक्षर लोगों को आती हैं। किसान कोड के द्वारा आप आपने अपना पंजीयन भी करा सकते हैं और इ उपार्जन, खरीफ और रबी फसल प्रोक्योरमेंट की जानकारी भी ऑनलाइन प्राप्त कर सकते हैं।
How to get the Kisan Code? किसान कोड को निकलने के लिए आपके पास समग्र आईडी होना जरूरी है, फिर आपको मध्य प्रदेश भावान्तर भुगतान योजना में पंजीकरण करना होगा। रजिस्ट्रेशन करने पर एक यूनिक किसान कोड मिलेगा। मध्य प्रदेश के किसान किसी भी योजना के लिए इस कोड का इस्तेमाल कर सकते हैं।
यदि आप कोड भूल गए हैं तो भी आप कोड को ऑनलाइन भावांतर भुगतान ऐप डाउनलोड करके उससे निकल सकते हैं। इसके लिए आपको गूगल प्ले स्टोर में जाकर भावांतर भुगतान ऐप डाउनलोड करनी होगी फिर अपना किसान कोड को वापस प्राप्त कर सकते हैं।

एमपी ई-उपार्जन 2020-21 के लिए हेल्पलाइन नंबर-

MP E-Uparjan Portal Kisan Helpline Number – खरीद केन्द्रों पर किसी भी शिकायत, प्रश्न या गेहूँ की बिक्री या रजिस्ट्रेशन करने में किसानों को कोई परेशानी आती हैं, तो किसान हेल्पलाइन नंबर 181 (e uparjan customer care) पर संपर्क कर सकते हैं और अधिक जानकारी के लिए इसकी अधिकारिक वेबसाइट में जाकर सारी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

इस तरह से मध्य प्रदेश के किसान रबी सीजन में अपनी गेहूँ की फसल की बिक्री कर पैसा कमा सकते हैं। हालांकि इसके लिए इंदौर, भोपाल और उज्जैन के 3 जिलों में गेहूँ की फसल की बिक्री की तारीख अभी तय नहीं की गई है। इसके लिए अलग से तिथि निर्धारित की जाएगी। क्योंकि ये सभी वे जिले है जिनमें कोरोना वायरस (COVID 19) के मामले सामने आये हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.