[पंजीकरण] मुख्यमंत्री भावांतर भुगतान योजना मध्यप्रदेश 2021 | MP Bhavantar Bhugtan Yojana

MP Bhavantar Bhugtan Yojana Registration | मध्यप्रदेश भावांतर भुगतान योजना 13 खरीफ फसलों के लिए ऑनलाइन पंजीकरण | भावांतर योजना पंजीयन लिस्ट 2021 | MP Bhavantar Bhugtan Yojana 2021 Online Registration | Check MSP & Bhavantar Bhugtan Yojana Portal MP | Mukhyamantri Bhavantar Bhugtan Yojna Panjiyan

मध्य प्रदेश सरकार “मुख्यमंत्री भावांतर भुगतान योजना” के लिए ऑनलाइन पंजीकरण (पंजीयन) शुरू करने जा रही है। इस योजना के तहत, सरकार उन सभी किसानों को पूरी कीमत घाटे (भाव + अंतर) का भुगतान करेगी, जो न्यूनतम समर्थन मूल्यों (MSP) के नीचे कृषि उत्पादन बेचते समय नुकसान झेलते थे। सरकार अगले कुछ दिनों में 13 खरीफ फसलों (Kharif Crops) के लिए इस योजना को शुरू करेगी जो राज्य के भीतर और बाहर न्यूनतम समर्थन मूल्यों (MSP) के नीचे बेची जा रही हैं। किसान ई-उपार्जन पोर्टल, मप्र सरकार की आधिकारिक वेबसाइट www.mpeuparjan.nic.in पर 28 जुलाई से 31 अगस्त तक ऑनलाइन पंजीकरण कर सकते हैं।

इस भावांतर भुगतान योजना (BBY Scheme) का प्राथमिक उद्देश्य फसल की बिक्री संकट के मामले में किसानों की आय बढ़ाने के लिए है। यदि खरीफ फसलों को बाजार में न्यूनतम समर्थन मूल्यों (MSP) की तुलना में कम कीमत पर बेचा जा रहा है, तो वे अपने नुकसान को कवर करने के लिए भावांतर भुगतान योजना के लिए आवेदन कर सकते हैं। इस वित्त वर्ष 2019-20 में 13 खरीफ फसलों की बाजार मूल्य एमएसपी से कम पाया गया है, इसलिए सरकार ने MP Bhavantar Bhugtan Yojana 2021 को फिर से शुरू करने के लिए यह कदम उठाया है। मुख्यमंत्री भावांतर भुगतान योजना ऑनलाइन पंजीयन, 13 खरीफ फ़सलों हेतु बाजार समर्थन मूल्य (MSP) की अधिक जानकारी हेतु इस लेख को अंत तक ध्यानपूर्वक पढ़ते रहें। 

MP Mukhyamantri Bhavantar Bhugtan Yojana In Hindi
MP Mukhyamantri Bhavantar Bhugtan Yojana In Hindi

Latest Update – एमपी ई-उपार्जन किसान ऑनलाइन पंजीयन 2021-22 रबी खरीद हेतु

मध्यप्रदेश भावांतर भुगतान योजना 2021 खरीफ फसलों के लिए किसान पंजीयन

Madhya Pradesh Bhavantar Bhugtan Yojana Farmer Registration for Kharif Crops – इस साल, सभी किसानों को पता चल जाएगा कि लगभग सभी खरीफ फसलों की बाजार कीमतें न्यूनतम समर्थन मूल्यों (MSP) से कम हैं। इसलिए, सरकार ने किसानों के सुधार के लिए इस भावांतर योजना को फिर से शुरू करने का फैसला किया है। भवान्तर भुगतान योजना अब राज्य में कपास, मूंग, गेहूं, उड़द, बाजरा, चावल, जह्वर, सोयाबीन, मूंगफली, तिल, रामतिल, मक्का और तूर दाल (Cotton, Moong, Wheat, Urad, Bajra, Rice, Jahwar, Soyabean, Groundnut, Til, Ramtil, Maize and Toor Daal) सहित 13 फसलों के लिए शुरू की गई है।

इस योजना के तहत, किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्यों (MSP) और कीमत के बीच अंतर के लिए मुआवजे मिलेगा, जहां किसान अपने उत्पाद मंडी में बेचते हैं। मॉडल मूल्य एमपी और 2 अन्य राज्यों में उत्पाद की औसत कीमत ले कर तय किया जाता है जहां ऐसी फसल उगाई जाती है। योजना लाभों के लिए, किसानों को ऑनलाइन पंजीकरण करने और पंजीकृत कृषि बाजारों में अपनी कृषि उपज बेचने की आवश्यकता है।

MP Bhavantar Bhugtan Yojana 2021 (New Update)-

मध्य प्रदेश मुख्यमंत्री भावांतर भुगतान योजना के तहत यदि किसान न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) से कम में फसल बेचता है तो शेष राशि राज्य सरकार द्वारा दी जाएगी। यह जानकर कि भावांतर भुगतान योजना में और अधिक समस्याएं हैं विशेषज्ञों के अनुसार, मध्य प्रदेश में योजना के कार्यान्वयन से सीखे गए सबक बहुत अच्छे नहीं हैं। यदि एक राज्य में इस योजना को लागू करने में ऐसी कोई समस्या है, तो पूरे देश में आवेदन करने के लिए यह एक बड़ी छलांग होगी। एक अनुमान के मुताबिक, अगर भावांतर भुगतान योजना पूरे देश में लागू की जाती है, तो उसे सालाना 75,000 करोड़ रुपये से 1 लाख करोड़ रुपये की आवश्यकता होगी। यदि एमएसपी की लागत सरकारी वादे के अनुसार ढाई गुना है, तो अधिक धन की आवश्यकता होगी।

इस साल सभी किसानों को पता चला है कि लगभग सभी खरीफ फ़सलों की बाजार कीमत न्यूनतम समर्थन मूल्यों (एमएसपी) से कम है। इसलिए सरकार ने किसानों के सुधार के लिए इस Mukhyamantri Bhavantar Bhugtan Yojana को फिर से शुरू करने का फैसला किया है। इस योजना के तहत किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) और बाजार मूल्य के बीच अंतर के लिए मुआवजा मिलेगा, जहां किसान अपने उत्पादों को मॉडल दाम में बेचते हैं। मॉडल मूल्य एमपी और 2 अन्य राज्यों में उत्पाद की औसत कीमत से निर्धारित होता है, जहां ऐसी फ़सलों उगाई जाती हैं। योजना लाभों के लिए, किसानों को ऑनलाइन पंजीकरण करने और पंजीकृत कृषि बाजारों में अपने कृषि उपज बेचने की आवश्यकता है।

मुख्यमंत्री भावांतर भुगतान योजना मप्र 2021 ऑनलाइन पंजीकरण प्रक्रिया-

Mukhyamantri Bhavantar Bhugtan Yojana MP Online Registration Process – भावांतर भुगतान योजना को पहली बार अक्टूबर 2019 में लगातार गिरते कृषि कीमतों को बनाए रखने के लिए एमपी सरकार द्वारा शुरू किया गया था। मंडी में बिक्री संकट के मामले में किसानों को वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए सरकार ने इस योजना को लॉन्च किया था। इस वर्ष भी, बहुत सारी फसलों की बिक्री में संकट बना हुआ है, इसलिए सरकार खरीफ फसलों के लिए इस योजना को फिर से शुरू करने जा रही है। ऑनलाइन बुकिंग 28 जुलाई से शुरू होगी और 31 अगस्त 2021 तक जारी रहेगी।

अधिक जानकारी के लिए कृपया मध्यप्रदेश सरकार के ई-उपार्जन पोर्टल (MP e-Uparjan Portal) की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं। लिंक नीचे उल्लिखित है। MP-e-Uparjan-Portal

MP Bhavantar Bhugtan Yojana Online Registration
MP Bhavantar Bhugtan Yojana Online Registration
  1. मप्र भावांतर भुगतान योजना एक किसान-अनुकूल योजना है और लगातार निगरानी, ​​निरीक्षण और मिशन मोड कार्यान्वयन की आवश्यकता है।
  2. इसके अलावा, सरकार इन फसलों को निर्यात करने पर ध्यान केंद्रित करेगी ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) से अधिक कीमत मिलती है।
  3. वर्तमान में, मूंग का बाजार मूल्य 5,000 प्रति क्विंटल है और एमएसपी 6, 925 है।
  4. अरहर के लिए, बाजार मूल्य 3,900 रुपये प्रति क्विंटल है और एमएसपी 5,650 रुपये प्रति क्विंटल है।
  5. यह योजना “2022 तक दोगुनी किसान आय” की ओर एक प्रमुख कदम है।
मध्यप्रदेश राज्य में भावांतर भुगतान योजना कैसे काम करता है?

How does Bhavantar Bhugtan Yojana Work in the Madhya Pradesh State – लोगों के दिमाग में एक लगातार सवाल रहता है कि “कैसे भावांतर भुगतान मूल्य घाटा योजना काम करता है”। यहां हम आपको मूल्य घाटे के बारे में विस्तार से बता रहे हैं। मान लीजिए कि मक्का के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) 3,000 रुपये प्रति क्विंटल है और मॉडल दर 2,500 रुपये है और:

  • यदि किसान मंडी में फसल को 2,700 रुपये प्रति क्विंटल में बेचते हैं, तो सरकार सीधे किसानों के बैंक खाते में प्रति क्विंटल 300 रुपये (3000 – 2700 रुपये) का भुगतान करेगी।
  • यदि किसान 2,300 रुपये प्रति क्विंटल पर फसल बेचते हैं, तो राज्य सरकार फसलों के लिए प्रति क्विंटल केवल 500 रुपये (3000 – 2500 रुपये) प्रदान करेगी।

मध्यप्रदेश भावांतर भुगतान योजना ऑनलाइन पंजीकरण के बारे में अधिक जानकारी के लिए, कृपया नीचे दिए गए लिंक के माध्यम से किसान कल्याण तथा कृषि विभाग, मध्य प्रदेश सरकार की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं। 

MP Krishi Dept Portal

अनाज / मसूर और सरसों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP):
  • जैसे कि अनाज एमएसपी 4,400 रुपये प्रति क्विंटल है लेकिन बाजार मूल्य 3200 और 3300 रुपये है।
  • मसूर का एमएसपी 4,250 रुपये प्रति क्विंटल बाजार मूल्य 3,000 रुपये से 3,200 रुपये है।
  • सरसों की खरीद कीमत 4,000 रुपये प्रति क्विंटल और बाजार मूल्य 3,500 रुपये है।

चूंकि अनाज के एमएसपी में 11% की वृद्धि होगी, कपास का 18% और जवाहर के एमएसपी में अब तक 41% की वृद्धि होगी। राज्य सरकार बाजार के समान फसल का भुगतान करती है, लेकिन एक बार Bhavantar Bhugtan Yojana पूरी तरह लागू हो जाने के बाद, अधिक से अधिक किसान एक ही समय में फसल बेचने आएँगे। यह बाजार से अंदर की फसल को बढ़ाएगा और कीमत खुले बाजार में गिर जाएगी तथा सरकार को एमएसपी अंतर चुकाने के लिए बहुत पैसा खर्च करना होगा।

भावांतर योजना पंजीयन लिस्ट 2020-2021:

MP Bhavantar Bhugtan Yojana Panjiyan List देखने के लिए आपको मप्र ई-उपार्जन पोर्टल में जाना होगा। इस पोर्टल में आप खरीफ और रबी फसल के साथ प्याज और मोटे अनाज हेतु पंजीयन कर सकते हो।

यह भी पढ़ें: MP E-Uparjan पोर्टल में धान खरीदी हेतु पंजीयन 2021-21

दोस्तों, यहां हमने आपको मुख्यमंत्री भावांतर भुगतान योजना मध्यप्रदेश- ऑनलाइन पंजीकरण प्रक्रिया (MP Bhavantar Bhugtan Yojana Online Registration Process) के बारे में पूरी जानकारी प्रदान की है। यदि आपके पास इस लेख से संबंधित कोई प्रश्न है तो नीचे अपनी टिप्पणी सबमिट करें। हम आपकी पूरी सहायता करेंगे। हमारी वेबसाइट readermaster.com में आने के लिए धन्यवाद, अधिक अपडेट के लिए बने रहें।

6 thoughts on “[पंजीकरण] मुख्यमंत्री भावांतर भुगतान योजना मध्यप्रदेश 2021 | MP Bhavantar Bhugtan Yojana”

  1. Vijaykant dwivedi

    Sir ham ek baat bataye Jo gov. Ki yojna hai na Kisi actual logo ki nhi milta Jo karmchariyo k pakch me the hai unhi ko yojnaye available hai

    1. Vijaykant dwivedi

      Kya general cast me koi gareeb nhi hota kya hamara yahi gunah hai k ham Brahman pariwar se hai aap Kisi bhi Apne adhikari ko bhej Kar jaanch Karwa sakte hai na to hamare pass Ghar hai aur na hi gov. Ki yojnao Ka koi labh milta hai kasam se Kabhi to aisa lagta hai ki is bhrast Bharat se to koi aur desh hi Accha hai agar yahi haal Raha to mai bhagwan se yahi kamna karunga k mujhe Kahi air desh me paida karna aise desh me nhi
      Dikhave k liye kahte to Mera Bharat mahan hai par
      Iska matalab to kuch aur hai
      Mera bharta to Mai mahan
      Banki Bharat mahan ho ya na ho kaun dekhta hai

  2. कृष्ण कुमार

    पंजीयन की ऐसी सुविधा हो कि किसान पोर्टल पर जाकर अपना पंजीयन खुद कर सके अभी पंजीयन का काम सिर्फ समितियों के ऑपरेटर के भरोसे है जो कि पंजीयन काम मे बहुत मनमानी करते है तथा किसान को पंजीयन हेतु समिति के ऑपरेटर के पास परेसान होना पड़ता है

    1. नमस्कार कृष्ण कुमार जी,
      भावांतर भुगतान योजना को पहली बार अक्टूबर 2017 में लगातार गिरते कृषि कीमतों को बनाए रखने के लिए एमपी सरकार द्वारा शुरू किया गया था। मंडी में बिक्री संकट के मामले में किसानों को वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए सरकार ने इस योजना को लॉन्च किया था। इस वर्ष भी, बहुत सारी फसलों की बिक्री में संकट बना हुआ है, इसलिए सरकार खरीफ फसलों के लिए इस योजना को फिर से शुरू करने जा रही है।
      अधिक जानकारी के लिए कृपया मध्यप्रदेश सरकार के ई-उपार्जन पोर्टल की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं। लिंक नीचे उल्लिखित है।
      Click Here

  3. Sir जी आप ये बताइये की सोयाबीन के पंजीयन कब से होंगे 2020/2021के

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top