India's Largest Hindi Information Website

soilhealth.dac.gov.in Prime Minister Soil Health Card Scheme Details & Apply Process-प्रधानमंत्री मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना की जानकारी

प्रधानमंत्री मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना की जानकारी

Prime Minister Soil Health Card Scheme Information

प्रधानमंत्री मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना का शुभारंभ भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा 17 फरवरी 2015 को किया गया था। प्रधानमंत्री जी सोइल हेल्थ कार्ड योजना किसान भाइयों के लिए बहुत ही लाभकारी है। इस योजना के तहत किसानों मिट्टी के गुण, फसलो को विकसित करना आदि के बारे में जानकारी देना है।

भारत में बहुत से किसान ऐसे है जिन्हें ये भी नहीं पता की अधिक उत्पादन करने के लिए किस प्रकार की फसल का विकास करना चाहिए।  देखा जाये तो किसान मिट्टी के गुण तथा मिट्टी कितनी तरह की होगी है यह भी नहीं जानते है तथा किसान अपने ज्ञान से फसलों का नाकाम होना तथा फसलों का बढ़ना जान सकते है लेकिन किसान यह नहीं जानते की मिट्टी की स्तिथि को कैसे सुधार सकते है।

इन्ही सब के लिए सरकार ने मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना की शुरुआत की है। इस योजना के तहत सरकार का अनुमान 3 साल के अंतर्गत ही पूरे भारत देश में लगभग 14 करोड़ किसानों को सोइल हेल्थ कार्ड जारी करने का लक्ष्य है। इस योजना के तहत किसानों को यह जो कार्ड दिया जायेगा इस कार्ड में एक रिपोर्ट छपेगी, जो किसानों को अपने ज़मीन तथा खेत के लिए 3 साल में सिर्फ एक बार ही दी जाएगी।

इस योजना के तहत किसानों को जो कार्ड दिया जायेगा जिसके तहत किसानों को यह जानकारी देगा की उनके खेत की ज़मीन की मिट्टी किस प्रकार की है तथा उस ज़मीन में किस तरह की फसल उगाई जाएगी। जिससे की किसानों को अधिक फायदा हो। इस योजना के तहत सरकार द्वारा सोइल हेल्थ कार्ड योजना के लिए 568 करोड़ रूपये की राशि आवंटित की गई है।

इस योजना के तहत  2015 – 2016 में लगभग हेल्थ कार्ड जारी करने के लक्ष्य के मुकाबले केवल 34 लाख हेल्थ कार्ड जुलाई 2015 तक जारी किये गए थे। जब तक एक भी हेल्थ कार्ड जिन राज्यों में जारी नहीं किये गए थे उन राज्यों के नाम इस प्रकार है :-

  • हरियाणा,
  • पश्चिम बंगाल,
  • गुजरात,
  • अरुणाचल प्रदेश,
  • तमिलनाडु,
  • उत्तराखंड,
  • केरल,
  • गोवा,
  • सिक्किम,

मिजोरम आदि। इस योजना के तहत फिर फरवरी 2016 तक 1.12 करोड़ कार्डो की बढ़ोतरी होनी थी। फिर इसके तहत 104 मिटटी के सैम्पेल फरवरी 2016 तक के लक्ष्य के मुकाबलने राज्यों में लगभग 81 लाख मिट्टी के सैम्पल की सुचना दी गई थी परंतु 52 लाख मिटटी के सैम्पल की जांच की गई थी।

इस योजना के तहत प्रधानमंत्री ने राज्यों के मुख्यमंत्रियों तथा प्रगतिशील किसानों की अगुवाई में सरकारी अधिकारियों को कृषि कर्मण पुरस्कार दिए। जिन राज्यों के मुख्यमंत्रियों को पुरस्कार दिए गए है उन राज्यों के नाम इस प्रकार है :-

  • गुजरात,
  • तमिलनाडु,
  • पंजाब,
  • असम,
  • पश्चिम बंगाल,
  • ओडिशा,
  • छत्तीसगढ़,
  • मेघालय,
  • मध्य प्रदेश आदि।

इस योजना के तहत प्रधानमंत्री जी में कृषि मंत्रियों की उपस्तिथि में जिन राज्यों के कृषि मंत्रियों के अधिकारियों को प्रशसित पुरस्कार दिए। उन राज्यों के नाम इस प्रकार है :-

  • कर्नाटक,
  • नागालैंड,
  • अरुणाचल प्रदेश,
  • महाराष्ट्र,
  • झारखंड आदि।

इस योजना के तहत प्रधानमंत्री जी के साथ इस मौके पर राजस्थान की मुख्यमंत्री श्रीमती वसुंधरा राजे, राजस्थान के राज्यपाल श्री कल्याण सिंह, केन्रीय कृषि मंत्री श्री राधा मोहन सिंह तथा पंजाब के मुख्यमंत्री श्री प्रकाश सिंह बदल जी भी मौजूद थे।

प्रधानमंत्री मृदा स्वस्थ्य कार्ड योजना में युक्त कुछ कार्य

Some Works under Prime Minister Soil Health Card Scheme

✪➤ प्रधानमंत्री मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना मिट्टी काम करने की विशेषताओं पर केंद्रित है।

✪➤ इस योजना के तहत बेहतर गुण मिट्टी में पाए जाते हैं तो यह है कि कार्ड की सूची में मिट्टी अलग है।

✪➤ इस योजना के तहत मिट्टी के स्वास्थ्य को भी देखा जाता है की मिट्टी ठीक है या नहीं।

✪➤ इस योजना के तहत किसानों को कुछ सुधारात्मक उपाय बताये जाते है जिसके तहत किसान अपनी मिट्टी के दोषों को सुधरने के लिए उपयोग में ला सके।

✪➤ इस योजना के तहत मिट्टी में पानी तथा तरह तरह पोषक तत्वों की सामग्री को भी शामिल किया जाता है।

प्रधानमंत्री सोइल हेल्थ कार्ड योजना के लक्षण

Characteristics of Prime Minister Soil Health Card Scheme

✪➤ प्रधानमंत्री सोइल हेल्थ कार्ड योजना को भारत देश के प्रत्येक भाग में शामिल किया जाना है।

✪➤ इस योजना के तहत हर 3 साल में एक खेत के लिए सोइल कार्ड दिया जायेगा।

✪➤ इस योजना के तहत कम से कम 14 करोड़ किसानों को इस योजना में शामिल किया जाना है।

✪➤ इस योजना के तहत किसानों को एक सोइल कार्ड के रूप में एक रिपोर्ट दी जाएगी एवं इस रिपोर्ट में उनके खेत की मिट्टी की पूरी जानकारी होगी।

प्रधानमंत्री सोइल हेल्थ कार्ड योजना कैसे काम करती है

How Prime Minister Soil Health Card Scheme Works

✪➤ प्रधानमंत्री मृदा हेल्थ  कार्ड योजना के तहत अथॉरिटी सबसे पहले तरह तरह की मिट्टी के सैम्पेल को एक साथ इकठ्ठा करेगी।

✪➤ इस योजना के अंतर्गत अथॉरिटी इसके पश्चात मिट्टी को लैब में जाँच के लिए भेजेगी तथा लैब के अंदर    विशेषज्ञ मिट्टी की जाँच करेंगे।

✪➤ इस योजना के तहत विशेषज्ञ जाँच के पश्चात परिणाम घोषित करेंगे तथा परिणाम का विश्लेषण करेंगे।

✪➤ इस योजना के तहत फिर विशेषज्ञ तरह तरह की मिट्टी के सैम्पल की कमज़ोरी तथा ताकत की लिस्ट बनाएँगे।

✪➤ इस योजना के तहत यदि इसके पश्चात मिट्टी में कुछ कमी है तो उस मिट्टी को सुधारने के लिए उपाय बताएँगे तथा उस मिट्टी की एक लिस्ट बनाएँगे।   

✪➤ इस योजना के तहत इसके पश्चात सरकार मृदा कार्ड में फोर्मेटेड तरीके से किसानों के लिए पूरी इनफार्मेशन डाल देगी। सरकार इस इनफार्मेशन को ऐसे डालेगी की किसान इस जानकारी को सरलता से तथा बेहतर तरीके से समझ सके।

प्रधानमंत्री सोइल हेल्थ कार्ड योजना के लाभ

Benifits OF Prime Minister Soil Health Card Scheme

प्रधानमंत्री सोइल हेल्थ कार्ड योजना के तहत अथॉरिटी सामान्य आधार पर मिट्टी को चेक करेगी तथा हर 3 साल में किसानों को इसकी रिपोर्ट देगी। यदी जांच के दौरान मिट्टी में कुछ बदलाव आता है तो किसानों को डरने की ज़रूरत नहीं है लगातार सरकार उनकी मिट्टी के बारे में बताती रहेगी।

इस योजना के तहत इस योजना का मुख्य उद्देश्य है की मिट्टी के प्रकार की खोज करना तथा जिस मिट्टी में सुधार की ज़रूरत है उस मिट्टी में विशेषज्ञ द्वारा उपलब्ध कराना तथा यदि किसी मिट्टी में कोई कमी है तो उस कमी को पूरा करना है।

इस योजना के तहत मिट्टी की जांच की जाएगी तथा जांच के बाद किसानों को एक रिपोर्ट दी जाएगी।  जिसके तहत किसान यह निर्णय ले सकेंगे की किस फसल को छोड़ देना चाहिए तथा किस फसल का विकास करना चाहिए।

इस योजना के तहत सरकार द्वारा किसानों को एक कार्ड दिया गया है जो की किसानों के लिए bahut ही प्रभावशाली तथा मददगार बन सकता है।

अधिक जानकारी के लिए नीचे लिंक पर क्लिक करे :-

यहाँ क्लिक करे :-  http://www.soilhealth.dac.gov.in/

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.