[पंजीकरण] आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार अभियान 2021 | Aatmanribhar UP Rozgar Yojana Form

Aatmanribhar UP Rozgar Yojana Form 2021 | Self-Reliant UP Employment Campaign Online Apply | Aatmanribhar Uttar Pradesh Rojgar Yojana | आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार योजना ऑनलाइन आवेदन / पंजीकरण फॉर्म

Self-Reliant UP Employment Campaign List
Self-Reliant UP Employment Campaign List

Self-Reliant UP Employment Campaign-: नमस्कार दोस्तों, आज हम आपको इस लेख के माध्यम से “आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार अभियान” की जानकारी देंगे। जैसे कि आपको विदित होगा कि देशव्यापी कोरोना लॉकडाउन की वजह से लाखों प्रवासी श्रमिक/मजदूर अपने-अपने राज्यों में लौटने को मजबूर हुए थे। इसका मुख्य कारण प्रवासियों का रोजगार इस तालाबंदी की वजह से खत्म हो गया था और उनके पास खाने तक के पैसे नहीं थे। ऐसे में सभी प्रवासी नागरिक अपने प्रदेशों में वापस आ गए थे। परन्तु मूल समस्या (बेरोजगारी) जस की तस बानी हुई है। प्रवासी श्रमिकों को रोजगार मुहैया कराने की दिशा में सबसे पहले उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी सामने आये हैं। उन्होंने दूसरे राज्यों से वापस आये प्रदेशवासियों के लिए ‘यूपी आत्मनिर्भर रोजगार योजना (Aatmanribhar UP Rozgar Yojana)’ की शुरुवात की है।

गैरतलब है कि इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने ‘गरीब कल्याण रोजगार अभियान’ की शुरुआत की थी। इसी तर्ज पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार अभियान का शुरू करने का ऐलान किया है। इस योजना के तहत सभी प्रवासी श्रमिकों/मजदूरों/कामगारों को उनके कौशल के अनुसार रोजगार दिया जाएगा। नीचे हम आपको Self-Reliant UP Employment Campaign Registration | Aatmanribhar Uttar Pradesh Rojgar Yojana | यूपी आत्मनिर्भर रोजगार योजना – ऑनलाइन पंजीयन की पूरी जानकारी प्रदान कर रहे हैं। कृपया इसके लिए इस आर्टिकल को अंत तक ध्यानपूर्वक पढ़ें।

आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार अभियान क्या है और इसका लाभ किन्हें मिलेगा?

Self-Reliant UP Employment Campaign Benefits – देशभर में लगे COVID-19 लॉकडाउन की वजह से जितनी औद्योगिक इकाइयां बंद थीं, उन सभी को 18 जून के बाद दोबारा चालू कराया गया है। इसमें कुल 7 लाख 8 हजार औद्योगिक इकाइयां हैं, जिसमें करीब 42 लाख श्रमिकों/कामगारों को समायोजित किया जाएगा। आत्मनिर्भर भारत पैकेज के तहत लघु, सूक्ष्म एवं मध्यम औद्योगिक (MSME) इकाइयों की सहायता के लिए बैंकों से 20% अधिक अतिरिक्त धनराशि कर्ज के तौर पर मुहैया कराई जा रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद उत्तर प्रदेश के 2 लाख 21 हजार इकाइयों को 5,000 करोड़ का कर्ज बाटेंगे।

कोरोना वायरस महामारी ने सामान्य श्रमिकों और खासकर, प्रवासी मजदूरों/कामगारों पर प्रतिकूल प्रभाव डाला है। इससे विभिन्न राज्यों में बड़ी संख्या में प्रवासी नागरिक वापस अपने प्रदेश लौटे हैं। इसके चलते सरकार के सामने COVID-19 से निपटने के साथ ही प्रवासी और ग्रामीण श्रमिकों/कामगारों को मूलभूत आवश्यकता की वस्तुएं और आजीविका के साधन उपलब्ध कराने की चुनौती आ खड़ी हुई। इसे देखते हुए भारत सरकार ने विभिन्न सेक्टरों को सहारा देने के लिए आत्मनिर्भर भारत पैकेज की घोषणा की। देश के पिछड़े इलाकों में एक मजबूत आधारभूत ढांचा खड़ा करते हुए रोजगार के अवसर पैदा करने के उद्देश्य से 20 जून 2020 को ‘PM गरीब कल्याण रोजगार अभियान’ की शुरुआत की गई थी।

Aatmanribhar Uttar Pradesh Rojgar Abhiyan की मुख्य विशेषताएं-

Key Features of Self-Reliant UP Employment Campaign – आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार अभियान/योजना के अंतर्गत सभी प्रवासी श्रमिकों/मजदूरों को उनके ही जिले में रोजगार प्रदान किया जाएगा। अकेले उत्तर प्रदेश में ही 30 लाख से अधिक प्रवासी श्रमिक/कामगार वापस आए है। इसी को देखते हुए राज्य के 31 जिलों में वापस लौटने वाले श्रमिकों की संख्या 25,000 से अधिक रही होगी।

  • योजना का उद्देश्य: – उत्तर प्रदेश सरकार ने केंद्र सरकार की योजना की तर्ज पर आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार अभियान के रूप में एक पहल की है। इसमें राज्य सरकार के साथ ही उद्योग जगत और अन्य संस्थाओं की भी भागीदारी है। इस अभियान का लक्ष्य रोजगार प्रदान करने, स्थानीय स्तर पर उद्यमिता को बढ़ावा देने और रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने के लिए औद्योगिक संगठनों और अन्य संस्थानों को एक साथ जोड़ना है।
  • रोजगार के साधन: – यूपी सरकार उद्योग, निर्माण परियोजनाओं, मनरेगा आदि के माध्यम से एक करोड़ दस लाख के करीब रोजगार सृजित कर चुकी है। अभी रोजगार की रफ्तार को और बढ़ाना है।
  • सबसे बड़ा रोजगार कार्यक्रम: – कोरोना वायरस संक्रमण के प्रसार के बीच लॉकडाउन के बाद यह देश का सबसे बड़ा रोजगार देने वाला कार्यक्रम है। प्रदेश में ही प्रवासियों को रोजगार देने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक्शन प्लान तैयार किया है। इसके तहत कल पीएम नरेंद्र मोदी यूपी के सवा करोड़ लोगों को रोजगार देने के कार्यक्रम में ऑनलाइन शिरकत करेंगे।
  • छह जिलों के कामगारों से बात करेंगे पीएम मोदी: – प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए सिद्धार्थनगर, गोंडा, बहराइच, गोरखपुर, संत कबीरनगर और जालौन के श्रमिक-कामगारों से बात भी करेंगे। साथ ही उनके मुंह से रोजगार और स्वरोजगार में सफलता की कहानी भी सुनेंगे।
Self-Reliant UP Employment Campaign (Aatmanribhar UP Rozgar Yojana)-
  • सरकार द्वारा 9126 करोड़ का लोन: – औद्योगिक इकाइयों को बंटेगा 9126 करोड़ का लोन। इस मेगा शो में सरकार कई बड़े कदम उठाने जा रही है। 1.25 करोड़ कामगारों का विभिन्न परियोजनाओं में नियोजन करने के साथ ही आत्मनिर्भर भारत पैकेज के तहत 2.40 लाख इकाइयों को 5900 करोड़ रुपये, जबकि 1.11 लाख नई इकाइयों को 3226 करोड़ रुपये का लोन बांटा जाएगा। इसके साथ ही विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना और एक जिला एक उत्पाद योजना (ODOP) में पांच हजार कारीगरों को टूल किट का वितरण किया जाएगा।
  • रोजगार प्रबंधन का काम: – अपर मुख्य सचिव सूक्ष्म एवं मध्यम उद्योग विभाग नवनीत सहगल ने बताया कि योगी आदित्यनाथ सरकार अब तक का सबसे बड़ा रोजगार प्रबंधन का काम करने जा रही है, जिसमें कई लोगों को नौकरी की चिट्ठी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद देंगे। 29 मई को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अगुवाई में जिन प्रमुख औद्योगिक संस्थाओं ने एक एमओयू पर हस्ताक्षर कर यह फैसला लिया था कि प्रवासी मजदूरों को बड़ी तादाद में रोजगार मुहैया कराएंगे। सभी संस्थाएं 11 लाख प्रवासी मजदूरों को रोजगार देने जा रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इन संस्थाओं की तरफ से 2 लाख प्रवासी कामगारों को नियुक्ति पत्र देंगे।
यूपी आत्मनिर्भर रोजगार योजना हेतु जरूरी दस्तावेज और पात्रता शर्ते-

Required Documents & Eligibility Conditions for Self-Reliant UP Employment Campaign – आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार योजना का लाभ लेने के लिए आवेदकों को निम्नलिखित जरूरी दस्तावेज और पात्रता शर्ते को पूरा करना होगा:

  1. UP Aatmanribhar Rojgar Yojana का लाभ लेने वाला नागरिक उसी राज्य का होना चाहिए, जहां योजना क्रियान्वित है।
  2. प्रवासी व्यक्ति के पास आधार कार्ड होना भी अनिवार्य है।
  3. काम पाने वाले श्रमिक/मजदूर को अपना निवास प्रमाण पत्र भी दिखाना होगा।
  4. इस योजना के तहत सिर्फ 18 साल से अधिक उम्र के लोगों को ही काम दिया जाएगा।
  5. श्रमिक/कामगारों को उनके स्किल के अनुसार दिया काम दिया जाएगा।
उत्तर प्रदेश ग्राम विकास और पंचायती राज विभाग ने पूरी की तैयारी-

Self-Reliant UP Employment Campaign Preparations – दूसरे राज्यों से श्रमिकों और कामगारों की सुरक्षित वापसी के साथ उत्तर प्रदेश सरकार ने बड़ा संकल्प यह लिया कि प्रदेश लौटे सभी प्रवासी लोगों को यहीं रोजगार दिया जाएगा। विपक्ष जहां रोजगार की स्थिति पर सवाल उठा रहा है, वहीं सरकार का दावा है कि एक करोड़ रोजगार के अवसर सृजित कर लिए गए हैं।इसके साथ ही सरकार अगले बड़े लक्ष्य की ओर कदम बढ़ाने जा रही है। सरकार ने दूसरे राज्यों से लौटे लोगों में से लगभग सभी यानी 36 लाख की स्किल मैपिंग कराई है।

औद्योगिक संस्थाओं के साथ समझौता हुआ है, जिसके तहत उद्यमियों से संपर्क कर सर्वे भी किया गया है कि कहां पर कुशल-अकुशल श्रमिक-कामगारों की कितनी जरूरत है। अभी इस सर्वे की पूरी रिपोर्ट आना बाकी है, उससे पहले ही केंद्र व राज्य सरकार की योजनाओं, निर्माण परियोजनाओं, सूक्ष्म लघु एवं मध्यम इकाइयों (MSME) व मनरेगा सहित अन्य सभी विभागों को लगाकर रोजगार की तलाश कराई गई। सरकार का दावा है कि इसके तहत एक करोड़ से अधिक रोजगार के अवसर सृजित हो चुके हैं। UP Migrant Workers Skill Mapping की अधिक जानकारी हेतु नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें।

इसे भी पढ़ें: यूपी प्रवासी श्रमिक/मजदूर स्किल मैपिंग प्रथम सूची जारी 2020

श्रमिकों/कामगारों को ऋण भी दिलाएगा MSME विभाग-

MSME Loan under Self-Reliant UP Employment Campaign – एमएसएमई विभाग अभी तक उद्यमियों को ऋण दिलाने में ही सक्रिय भूमिका निभा रहा था। अब मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए हैं कि सरकार की योजनाओं में यदि श्रमिक/मजदूर/कामगार भी ऋण पाने के पात्र हों तो एमएसएमई विभाग बैंकों से समन्वय कर उन्हेंं ऋण दिलाए। योगी सरकार का मानना है कि इससे स्वरोजगार और रोजगार, दोनों ही बढ़ेंगे। कोरोना लॉकडाउन के दौरान सबसे ज्यादा 35 लाख प्रवासी मजदूर उत्तर प्रदेश लौटे हैं।

इसे भी पढ़ें: MSME – एमएसएमई COVID-19 उद्योग लोन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया

आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार योजना ऑनलाइन आवेदन/पंजीकरण प्रक्रिया-

Self-Reliant UP Employment Campaign Application/Registration Process – योगी सरकार की ‘आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार अभियान’ निःसंदेह बहुत अच्छी पहल है। अब देखना यह है कि लोगों को इस योजना का लाभ कैसे दिया जाता है। अभी फिलहाल सरकार द्वारा Uttar Pradesh Aatmanribhar Rojgar Yojana के तहत आवेदन / पंजीकरण प्रक्रिया की कोई जानकारी साझा नहीं की है। जैसे ही सरकार इस योजना की और अधिक जानकारी देती है तो हम उसे इस पोर्टल में अपडेट कर देंगे।

इसे भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश श्रमिक कार्ड ऑनलाइन पंजीकरण और लाभार्थी सूची

RM-Helpline-Team

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top