[1 करोड़ रुपये इनाम] आयकर विभाग द्वारा बेनामी लेनदेन सूचनार्थी पुरस्कार योजना 2018: स्टेटमेंट फॉर्मेट और दिशानिर्देश पीडीएफ डाउनलोड करें-New Benami Transactions Informants Reward Scheme in Hindi

[One Crore Rs] New Benami Transactions Informants Reward Scheme 2018 by Income Tax Department: Download Statement Format-Guideline PDF, Be an Informer of IT Dept & Earn Up to 5 Crore

आयकर विभाग ने टैक्स चोरी को रोकने के लिए एक “नई बेनामी लेनदेन सूचनार्थी पुरस्कार योजना-2018” (New Benami Transactions Informants Reward Scheme-2018) का ऐलान किया है। इस योजना के तहत, बेनामी लेनदेन पर जानकारी/रिपोर्ट प्रदान करने वाले सभी लोगो को 1 करोड़ रुपये का पुरस्कार मिलेगा। यह पहल सिस्टम से काले धन और भ्रष्टाचार को कम करने के लिए जनता को संलग्न करेगी। जो लोग जानकारी देना चाहते हैं वे आयकर विभाग, भारत सरकार (Income Tax Dept, Govt of India) की आधिकारिक वेबसाइट पर निर्धारित वक्तव्य फॉर्म अनुलग्नक ए (Annexure-A) डाउनलोड कर सकते हैं।
यह इनाम योजना लोगों को बेनामी लेनदेन और संपत्तियों (Benami Transaction and Assets) के बारे में आयकर विभाग को जानकारी प्रदान करने के लिए प्रोत्साहित करेगी। इसके अलावा, आयकर छुपा निवेशकों और लाभकारी मालिकों द्वारा ऐसी संपत्तियों पर अर्जित आय के बारे में जानकारी प्राप्त करने में सक्षम होगा। यदि किसी विदेशी के पास ऐसे व्यक्ति के बारे में कोई जानकारी है, तो वे इस पुरस्कार योजना (Reward Scheme) के लिए भी पात्र हैं। आईटी विभाग सूचनार्थियों की पहचान (ID) का खुलासा नहीं करेगा और इसे हमेशा गोपनीय ही रखेगी।

बेनामी संपत्ति (Benami Property) क्या है और इसके बारे में सरकार को जानकारी देकर 1 करोड़ का इनाम कैसे मिलेगा?

बेनामी या गुमनाम संपत्ति पर जोरदार चोट करने के इरादे से मोदी सरकार ने एक करोड़ रुपये की इनामी योजना का ऐलान किया है। आयकर विभाग (Income Tax Department) ने बेनामी संपत्ति को उजागर करने के लिए “बेनामी लेनदेन सूचनार्थी पुरस्कार योजना-2018” की शुरुआत की है। इस योजना के तहत, किसी भी व्यक्ति की बेनामी संपत्ति के बारे में जानकारी देने पर व्यक्ति को सरकार द्वारा एक करोड़ की इनामी राशि मिल सकती है। वित्त मंत्रालय (Finance Ministry) ने जानकारी दी और कहा कि ‘बेनामी लेनदेन सूचनार्थी पुरस्कार योजना 2018’ के तहत, जॉइंट या एडिश्नल कमिश्नर को आयकर विभाग निदेशालय के जांच के दायरे में आने वाली बेनामी संपत्ति की विशिष्ट जानकारी देने पर व्यक्ति को 1 करोड़ रुपये का इनाम प्राप्त हो सकता है।
जानकारी के मुताबिक इनाम प्राप्त करने वाले व्यक्ति का नाम गुप्त रखा जाएगा और इसे किसी भी हाल में सार्वजनिक नहीं किया जाएगा। अगर उसके द्वारा दी गई जानकारी गलत होगी तो इनामी राशि नहीं दी जाएगी और गलत जानकारी के एवेज में उचित करवाई की जाएगी। इसके लिए आयकर विभाग अपने स्तर पर जांच करेगी इसके साथ यह इनामी राशि तभी दी जाएगी जब बेनामी/गुमनाम संपत्ति निरोधक कानून, 1988 (Benami Property Prevention Law, 1988) के तहत आती हो, जिसे 2016 में संशोधित किया गया था।

  • क्या होती है बेनामी संपत्ति (What is Anonymity Property): – कोई भी व्यक्ति जब किसी संपत्ति को अपने पैसे से किसी और के नाम (दोस्त/रिस्तेदार या अन्य किसी और व्यक्ति के नाम) से खरीदता है तो वह बेनामी संपत्ति कहलाएगी।  हालांकि, यह जरूरी है कि संपत्ति में लगाया गया पैसे का स्रोत अज्ञात हो, जिसकी जानकारी आयकर विभाग (Income Tax Dept) को भी न हो. फिर चाहे पेमेंट कैसे भी किया उससे कोई फर्क नहीं पड़ता। संशोधित कानून के तहत केंद्र सरकार (Central Government) के पास यह अधिकार है कि वो ऐसी संपत्ति को कभी भी जब्त कर सकती है। इसके साथ ही बेनामी संपत्ति की खरीद में दोषी पाए जाने पर खरीददार को 7 सात साल तक की कैद और कुछ निश्चित जुर्माने की सजा हो सकती है।
बेनामी लेनदेन सूचनार्थियों योजना-2018 (Benami Transaction Informants Scheme) की जानकारी कैसे दे-

लोग आईटी विभाग (IT Department) के जांच निदेशकों में बेनामी निषेध इकाई (Benami Prohibition Unit) के संयुक्त/अतिरिक्त आयुक्तों को निर्धारित तरीके से विशिष्ट जानकारी प्रदान करके 1 करोड़ रुपये कमा सकते हैं। इसके अलावा, कोई भी व्यक्ति स्टैश किए गए धन (स्विस बैंकों जैसे गुप्त स्थानों पर संग्रहीत) पर जानकारी देकर 5 करोड़ रुपये तक की कमाई भी कर सकते हैं। सूचना देने के लिए स्टेटमेंट प्रारूप डाउनलोड (Download Statement Format) करने की पूरी प्रक्रिया नीचे दी गई है:

  • सबसे पहले आयकर विभाग, भारत सरकार (Income Tax Dept, Govt of India) की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं। लिंक नीचे उल्लिखित है।

यहाँ क्लिक करें।

  • होमपेज पर, ‘व्हाट्स न्यूज’ (Whats News) सेक्शन के तहत “बेनामी ट्रांजैक्शन इंफॉर्मेंट्स रिवार्ड स्कीम 2018 [नया]” (New Benami Transaction Informants Reward Scheme) लिंक पर क्लिक करें।
  • डायरेक्ट लिंक- उम्मीदवार नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके पीडीएफ प्रारूप में इस बेनामी संपती योजना के लिए पूरी जानकारी और स्टेटमेंट प्रारूप (Statement Format) सीधे देख सकते हैं:

बेनामी लेनदेन सूचनार्थियों की योजना 2018 (पीडीएफ) के लिए यहां क्लिक करें >> Click Here

  • सूचनार्थियों के लिए ‘स्टेटमेंट फॉर्मेट’ (Statement Format) निम्नानुसार दिखाई देगा:

  • इस योजना के परिणामस्वरूप काले धन और कर चोरी को प्रकट करने में आम लोगों की भागीदारी बढ़ेगी। यह भी आश्वासन दिया जाता है कि आयकर विभाग बेनामी संपत्तियों वाले व्यक्तियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करेगा। आईटी विभाग (IT Department) ने देश भर में हर आयकर कार्यालय में इस पुरस्कार योजना के लिए परिपत्र की एक प्रति भेजी है।
नोट – आईटी विभाग ने पाया है कि बड़ी संख्या में ऐसे मामले हैं जहां अन्य लोगों के नाम पर संपत्तियों में काले धन का निवेश किया जाता है। कर रिटर्न दाखिल करते समय ये निवेशक अपने फायदेमंद स्वामित्व को छुपाते हैं। पहले, आईटी विभाग बेनामी प्रॉपर्टी ट्रांजैक्शन एक्ट, 1988 (IT Dept Benami Property Transaction Act, 1988) के तहत ऐसे लोगों पर कार्रवाई करता था जिसे बाद में बेनामी लेनदेन (निषेध) संशोधन अधिनियम, 2016 में संशोधित किया गया। अब, आईटी विभाग ने एक नया बेनामी लेनदेन सूचनार्थियों पुरस्कार योजना, 2018 (New Benami Transactions Informants Reward, 2018) का प्रस्ताव दिया है।

नया बेनामी लेनदेन सूचनार्थियों पुरस्कार योजना के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए, उम्मीदवार नीचे दिए गए लिंक के माध्यम से भारत सरकार के आयकर विभाग (Income Tax Department, Government of India) की आधिकारिक वेबसाइट पर जा सकते हैं।

यहां क्लिक करें >> Click Here

उपयोगकर्ता, यहां हमने आपको नया बेनामी लेनदेन सूचनार्थियों पुरस्कार योजना, 2018 (New Benami Transactions Informants Reward Scheme, 2018) के बारे में पूरी जानकारी प्रदान की है। यदि आपके पास इस आलेख से संबंधित कोई प्रश्न है तो नीचे अपनी टिप्पणी सबमिट करें या इसे “अपना प्रश्न पूछें” अनुभाग पर छोड़ दें। हमारी वेबसाइट ReaderMaster.com (भारत की सबसे बड़ी ऑनलाइन विचार-विमर्श फोरम) में आने के लिए धन्यवाद, अधिक अपडेट के लिए बने रहें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.