मुख्यमंत्री गुड समारितन योजना उत्तर प्रदेश | 2000 रुपये नकद ईनाम

Mukhyamantri Good Samaritan Yojana Uttar Pradesh | Scheme For Road Accident Victims UP | सड़क दुर्घटना में घायलों को अस्पताल पहुँचाने पर 2000 रुपये नकद ईनाम

Mukhyamantri-Good-Samaritan-Yojana-In-Uttar-Pradesh
Mukhyamantri-Good-Samaritan-Yojana-In-Uttar-Pradesh

UP Mukhyamantri Good Samaritan Yojana 2020-: नमस्कार दोस्तों, आज हम आपको उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा शुरू किये गए यूपी गुड समारितन योजना के बारे में जानकारी देंगे। उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य में बढ़ती सड़क दुर्घटनाओं के लिए गुड समारितन योजना लाने के लिए नई पॉलिसी पर काम कर रही है। इस सरकारी योजना के तहत वे लोग जो सड़क दुर्घटना में घायलों लोगों को अस्पताल ले जाएंगे। उन्हें यूपी सरकार 2,000 रूपये का नकद पुरस्कार प्रदान करेगी। ताकि घायल व्यक्ति का इलाज समय पर हो सके। अभी गुड समारितन योजना के लिए राज्य सरकार रोडमैप तैयार कर रही है। जिसके बाद, 2 से 3 महीनों के अंदर इस सड़क दुर्घटना पीड़ित योजना के शुरू होने की उम्मीद है।

उत्तर प्रदेश गुड समारितन स्कीम का मुख्य उद्देश्य सड़क दुर्घटना से पीड़ित व्यक्ति को महत्वपूर्ण घंटों (यानि दुर्घटना होने के पहले घंटे) में चिकित्सा सहायता उपलब्ध करना है। जिससे उसकी जान बचाई जा सके। राज्य सरकार द्वारा निकाले गए आंकड़ों के अनुसार, सड़क दुर्घटना होने के बाद शुरुआत का पहला घंटा व्यक्ति की जान बचाने के लिए सबसे महत्वपूर्ण होता है। राज्य के परिवहन विभाग ने फरवरी 2018 में राज्य सड़क सुरक्षा परिषद की बैठक में इस यूपी गुड समारितन योजना को शुरू किया था। इस आर्टिकल में हम आपको Mukhyamantri Good Samaritan Yojana की जानकारी देंगे। कृपया इसके लिए पूरा लेख अंत तक ध्यान से पढ़ें।

मुख्यमंत्री गुड समारितन योजना उत्तर प्रदेश (Mukhyamantri Good Samaritan Yojana Uttar Pradesh)

Rs 2,000 Incentives Under Good Samaritan Scheme – उत्तर प्रदेश में गुड समारितन योजना को अन्य राज्यों दिल्ली, गुजरात, ओडिशा, कर्नाटक और महाराष्ट्र की तर्ज पर शुरू किया गया है। इन सभी राज्यों में पहले से ही दुर्घटना पीड़ितों की सहायता के लिए स्कीम चल रही है। जहां पर सड़क दुर्घटना में घायल व्यक्ति को अस्पताल में ले जाने पर 2,000 रूपये का नकद ईनाम सरकार द्वारा दिया जाता है।
जैसा की आप सभी जानते हैं घायल व्यक्ति को अस्पताल ले जाने पर मदद करने वाले को पुलिस और अस्पताल द्वारा बहुत से सवाल पूछे जाते थे जिसको केंद्र सरकार ने 2014 में सूप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद बदल दिया था। अब गुड समारितन कानून के तहत किसी भी सहायक व्यक्ति से पुलिस और हॉस्पिटल सवाल जवाब नहीं कर सकते हैं।

सड़क दुर्घटना पीड़ितों के लिए योजना (Scheme for Road Accident Victims In Uttar Pradesh)-

Mukhyamantri Good Samaritan Yojana Implementation – यूपी गुड समारिटन योजना के सफलतापूर्वक कार्यान्वयन के लिए राज्य सरकार ने 50 लाख रुपये की राशि आवंटित करी है। सहायक को दी जाने वाली 2,000 रूपये की धनराशि ‘सड़क सुरक्षा कोष’ में से दी जाएगी। राज्य सरकार के आकड़ों के अनुसार, वर्ष 2017 में यूपी में सड़क दुर्घटना के 38,811 मामलों में से 20,142 लोगों की मौत हुई थी। और 27,507 लोग घायल हुए थे।

वर्ष 2018 में सड़क दुर्घटनाओं के 42,568 मामले सामने आए। जिसमें से 22,256 लोगों की जान गई और राज्य में 29,664 लोग घायल हुए। अगर इस साल की बात करें। तो जनवरी से मई तक उत्तर प्रदेश में 18,521 सड़क दुर्घटनाएं हुईं हैं। जिसमें 10,119 लोग मारे गए हैं और 12,379 लोग घायल हुए हैं।

  • Compliance of Good Samaritan Guidelines PIB: Click Here

यह भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश सरकारी योजनाओं की सूची और ताज़ा खबरें 2020-21

दोस्तों, यहां हमने आपको उत्तर प्रदेश गुड समारितन योजना (Mukhyamantri Good Samaritan Yojana Uttar Pradesh) सड़क दुर्घटना में घायलों को अस्पताल पहुँचाने पर 2,000 रुपये नकद ईनाम के बारे में पूरी जानकारी दी है। अगर आपको इस पोस्ट से सम्बंधित कोई प्रश्न पूछना है तो नीचे कमेंट सेक्शन में पूछ सकते हो। हमारी टीम आपकी समस्या का जल्द से जल्द समाधान करेगी। www.readermaster.com में आने के लिए धन्यवाद, अधिक अपडेट के लिए बने रहें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.