[MSME] एमएसएमई COVID-19 उद्योग लोन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया

MSME-Udyog-Loan-Registration-In-Hindi
MSME-Udyog-Loan-Registration-In-Hindi

MSME COVID-19 Udyog Loan Registration Process-: नमस्कार दोस्तों, आज हम आपको इस लेख के माध्यम से “एमएसएमई COVID-19 उद्योग लोन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया” की जानकारी देंगे। जैसे कि आपको मालूम होगा कि अभी हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने ‘आत्मनिर्भर भारत अभियान’ के तहत विशेष पैकेज की घोषणा की है। सूक्ष्म, छोटे एवं मध्यम व्यवसाय के क्षेत्र में उद्योग मंत्रालय द्वारा उद्योग के सभी कार्यों को सुचारू रूप और अच्छे ढंग से चलाने के लिए कई बड़े और छोटे प्रकार के सरकार इनसे संबंधित नियम लाती रहती है। इन सभी छोटे एवं बड़े उद्योग क्षेत्रों में संबंधित नियम, विनियम और इसमें यदि कोई सुधार करने की आवश्यकता है, तो इससे संबंधित नए कानूनों का निर्माण भी किया जाता है।

किसी भी देश के विकास का श्रेय उस देश के युवा पीढ़ी एवं नवयुवक उद्यमियों के ऊपर ज्यादातर निर्भर करता है। भारत सरकार के छोटे, सूक्ष्म एवं मध्यम उद्योग मंत्रालय (एमएसएमई) ने इन सभी चीजों को ध्यान में रखा और छोटे बड़े उद्यमियों को उनके व्यवसाय में कोई समस्या ना आए। इसके लिए विशेष रूप से एमएसएमई का ऑनलाइन पंजीकरण प्रक्रिया को शुरू किया है। नीचे हम आपको MSME COVID-19 Udyog Loan Registration Process | Aatmanirbhar Bharat Udyog Rin Online Panjiyan | आत्मनिर्भर भारत एमएसएमई उद्योग ऋण ऑनलाइन पंजीयन की पूरी जानकारी प्रदान कर रहे हैं। कृपया अंत तक बने रहें।

एमएसएमई उद्योग लोन कितने प्रकार के होते हैं?

Types of MSME Udyog Loan – मई 2020 में कोरोना लॉकडाउन के दौरान वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने उद्योग क्षेत्र में बड़े बदलाव की घोषणा की है। एमएसएमई की परिभाषा अब बदल गई है, इसके अंतर्गत अब नयी रेंज आ गई है।

यह एक ऐसी सेवा है- जो सूक्ष्म, छोटे और मध्यम तीनों श्रेणी में आने वाले उद्योगपतियों के लिए एक प्रकार से सामान्य विकास और उनके आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के लिए सहायता प्रदान करती है। इन तीनों व्यापार के क्षेत्र में यह एक प्रकार का रीड के हड्डी का कार्य करता है। जिसके बिना कुछ भी संभव नहीं हो सकता। इसके अंतर्गत छोटे-बड़े मशीनी संयंत्रों की खरीददारी में लगने वाले पूंजी निवेश के अनुसार इसको वर्गीकृत किया जाता है, जो इस प्रकार से निम्नलिखित है:

  1. सूक्ष्म उद्योग (Micro) – इसके अंतर्गत 1 करोड़ का निवेश करने वाले, जिनका टर्नओवर 5 करोड़ है, वो यूनिट एवं कंपनी आएगी।
  2. लघु कुटीर उद्योग (Small) – इसके अंतर्गत 10 करोड़ का निवेश करने वाली, जिनका टर्नओवर 50 करोड़ है, वो उद्योग है।
  3. मध्यम उद्योग (Medium Industry) – इसके अतंर्गत 20 करोड़ का निवेश करके 100 करोड़ का टर्नओवर तक पाने वाले बड़े उद्योग और कंपनी आएगी।

भारत देश में एमएसएमई उद्योग लोन का क्या महत्व है?

Importance of MSME Udyog Loan in India – भारत के कुल 45% अर्थव्यवस्था का हिस्सेदार एमएसएमई भी है। यदि केंद्रीय एवं राज्य सरकार और बैंकिंग सेक्टर इसके अंतर्गत मिलने वाले लाभ को प्राप्त करना चाहते हैं तो उनको सर्वप्रथम एमएसएमई में अपना पंजीकरण करवाना अनिवार्य होगा। सूक्ष्म एवं मध्यम वर्गीय उद्योगपतियों को इस सेवा के अंतर्गत अनेकों प्रकार के लाभ प्राप्त होते हैं जैसे कि- कम ब्याज दर, उत्पादन शुल्क में छूट, योजना कर सब्सिडी और अनेकों प्रकार के लाभ इसके अंतर्गत लोगों को प्रदान किए जाते हैं।

उद्योग जगत में अन्य किसी चीजों पर छूट प्राप्त करने के लिए आपको सर्वप्रथम उद्योग आधार में अपना पंजीकरण करवाना बेहद जरूरी होता है। यह पंजीकरण तो सिर्फ एक वैकल्पिक रूप में किया जाता है। अगर आप सूक्ष्म, छोटे और मध्यम वर्गीय के किसी भी प्रकार के उद्योग का शुरुआत करना चाहते हैं तो इस परिस्थिति में आपको एमएसएमई का प्रमाण पत्र चाहिए होता है।

इसे भी देखें: Udyog Aadhaar – उद्योग आधार ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रोसेस

एमएसएमई उद्योग ऋण ऑनलाइन पंजीकरण के लाभ क्या है?

Benefits of MSME Udyog Loan Online Registration – इसके अंतर्गत आने वाले सभी पंजीकृत व्यापारियों को अनेकों प्रकार के लाभ प्राप्त होते हैं। जिनमें से कुछ मुख्य लाभ इस प्रकार से हैं:

  • बैंकिंग के क्षेत्र में लाभ: – इसमें पंजीकृत सभी व्यापारियों को बैंकों से लोन को प्राप्त करने में आसानी हो जाती है और इतना ही नहीं सामान्य ब्याज दरों के मुताबिक इसके अंतर्गत 1 या फिर 5 प्रतिशत का ब्याज दर सभी व्यापारियों से कम ही लिया जाता है।
  • राज्य सरकार द्वारा मिलने वाली छूट का लाभ: – एमएसएमई में जितने भी व्यापारी पंजीकृत हैं। उन सभी लोगों को बिजली और औद्योगिक क्षेत्रों में सरकार द्वारा प्रदान की जाने वाली सब्सिडी की भी सहायता प्रदान की जाती है। एमएसएमई सब्सिडी के अंतर्गत सभी नए व्यापारियों को व्यवसाय में उपयोग होने वाली बिजली की खपत में भी उनको कुछ छूट प्रदान की जाती है।
  • कर में मिलने वाला लाभ: – MSME Udyog Loan के अंतर्गत सभी पंजीकृत उद्यमियों को उनके व्यापार में लगने वाले कर में भी कुछ छूट प्रदान की जाती है। इसके साथ ही सभी नए उद्यमियों को उनके प्रारंभिक व्यवसाय के वर्ष में कुछ प्रत्यक्ष रूप से छूट प्रदान की जाती है और इसके अतिरिक्त सरकार की सहायता से नए व्यापार को स्थापित करने वाले व्यापारियों को अनेकों प्रकार के उनके व्यवसाय से संबंधित सब्सिडी भी प्रदान की जाती है।
  • केंद्र और राज्य सरकार के अनुमोदन का लाभ: – इसके अंतर्गत पंजीकृत सभी व्यापारियों के व्यवसाय के संबंधित यदि कोई लाइसेंस या प्रमाणीकरण की आवश्यकता होती है तो उन्हें यह बड़ी ही आसानी से प्राप्त हो जाता है। केंद्र सरकार एमएसएमई को और भी बढ़ावा देने के लिए इसके लिए अनेकों प्रकार के टेंडर और निविदाएं लाते रहते हैं। जिससे हमारे देश में लघु व्यापार के क्षेत्र को आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहन मिल सके।
MSME उद्योग लोन पंजीयन हेतु आवश्यक दस्तावेज सूची-

Documents Required for MSME Udyog Loan Panjiyan – इसके अंतर्गत सभी व्यापारियों को पंजीकरण करवाने के लिए कुछ आवश्यक दस्तावेजों की जरूरत पड़ती है। जो निम्न प्रकार से नीचे दिए गए हैं:

  • आवेदनकर्ता का पैन कार्ड का प्रतिलिपि
  • प्रमाण पत्र (आधार कार्ड, पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस आदि का प्रतिलिपि)
  • इसके अतिरिक्त आवेदक की पासपोर्ट-साइज का फोटो

अन्य प्रकार के महत्वपूर्ण दस्तावेजों की सूची:

  • अगर लाभार्थी किसी किराए के संपत्ति में अपना उद्योग करता है, तो उसे किराएदार का समझौता प्रमाण पत्र चाहिए होगा।
  • यदि लाभार्थी स्वयं की संपत्ति में अपने उद्योग को चलाता है, तो इसके लिए उसे सभी प्रकार के संपत्ति दस्तावेज चाहिए होंगे।
  • लाभार्थी का शपथ प्रमाण पत्र
  • लाभार्थी का स्व-घोषणा दस्तावेज और एनओसी
  • इसके अतिरिक्त लाभार्थी को उसके साक्षी (Witness) के रूप में दो व्यक्ति चाहिए।

इसे भी पढ़ें: प्रधानमंत्री युवा रोजगार योजना 2020 PMRY Form PDF

एमएसएमई उद्योग ऋण योजना में पंजीकरण प्रक्रिया क्या है?

Registration Process in MSME Udyog Loan Yojana – एमएसएमई में पंजीकरण करवाने के लिए मुख्य रूप से दो प्रक्रियाएं शुरू की गई है। पहली प्रक्रिया ऑफलाइन और दूसरी प्रक्रिया ऑनलाइन के रूप में पूरी की जा सकती है। आप अपने पंजीकरण की सुविधा अनुसार इन दोनों प्रक्रियाओं का चयन कर सकते हैं। हमने दोनों प्रक्रिया का वर्णन विस्तारपूर्वक नीचे किया है। जिसकी जानकारी देख कर आप भी एमएसएमई उद्योग ऋण योजना में अपना पंजीकरण कर सकते हो।

इसे भी पढ़ें: प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम – नए व्यवसाय हेतु 25 लाख रुपये सब्सिडी लोन

MSME Udyog Loan में ऑफलाइन पंजीयन प्रक्रिया-

Offline Registration Process in MSME – यदि आप छोटे या फिर मध्यमवर्गीय व्यापार को शुरू करना चाहते हैं। तो इसके लिए आपको सबसे पहले अपने व्यापार से संबंधित एमएसएमई के विभाग में जाना होगा। फिर वहां से अपने व्यापार से संबंधित आवेदन पत्र को प्राप्त करना होगा और इसमें पूछी जा रही सभी आवश्यक जानकारियों को बड़े ही ध्यानपूर्वक से भरना होगा।

  1. अब अपने व्यापारिक दस्तावेजों को लेकर संबंधित विभाग में जाने के बाद, आपको इन सभी आवेदन पत्रों की स्वयं से पुष्टि करने के बाद, इसे वहां पर जमा करवा दें।
  2. अपने पंजीकरण फॉर्म को जमा करने से पहले, इस क्षेत्र में किसी संबंधित विशेषज्ञ से अपने दस्तावेजों की जांच करवाएं और इसके बारे में जानकारी प्राप्त करें।
  3. इन सभी आवश्यक कार्यों को करने के बाद, आपको अब अपने जिले के उद्योग केंद्र में जाना है और फिर वहां पर आपको अपने आवेदन पत्र को जमा करवा कर अपना पंजीयन पूरा करवा लेना है।
  4. अब आगे आपके आवेदन पत्र को MSME Udyog Loan वेबसाइट विभाग में भेजा जाएगा और फिर वहां पर संबंधित व्यवसायिक अधिकारी आपके सभी प्रकार के दस्तावेजों की जांच करेंगे।
  5. स्पष्टीकरण होने के बाद, आपके आवेदन को स्वीकृति प्रदान की जाती है और उसके बाद से आपको एमएसएमई का प्रमाण पत्र जारी किया जाता है और फिर इसकी सूचना आपको पोस्ट-ऑफिस या फिर ईमेल के जरिए प्रदान की जाती है।

इसे भी पढ़ें: नाबार्ड – डेयरी कर्ज योजना लोन स्कीम ऋण सब्सिडी हेतु पंजीकरण

एमएसएमई उद्योग लोन में ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रोसेस-

Online Registration Process in MSME Udyog Loan – इसके अंतर्गत यदि आप ऑनलाइन रूप में अपना पंजीकरण करवाना चाहते हैं तो सबसे पहले आपको उद्योग आधार की ऑफिशियल वेबसाइट https://udyogaadhaar.gov.in/ पर जाना होगा।

MSME-Udyog-Loan-Online-Registration-Process
MSME-Udyog-Loan-Online-Registration-Process
  1. अब यहां पर आपसे आपका पंजीकरण पूरा करने के संबंधित कुछ आवश्यक जानकारियों पूछी जाती है और उन सभी जानकारियों को आपको बड़े ही ध्यान से पढ़ना और भरना होता है।
  2. एमएसएमई की ऑफिसियल रजिस्ट्रेशन वेबसाइट पर आपको इसके आवेदन फॉर्म में पूछी जा रही सभी प्रकार की आवश्यक जानकारियों को ध्यानपूर्वक भरना है। इसके बाद, आपके आवेदन फॉर्म को ऑनलाइन रूप में ‘Submit’ कर दे।
  3. अब अपने ऑनलाइन फॉर्म को सबमिट करने के बाद से आपके पंजीकृत मोबाइल नंबर पर या फिर ईमेल पर आपको एक वेरिफिकेशन ओटीपी कोड भेजा जाएगा।
  4. इस OTP को प्राप्त करने के बाद, आपको पंजीकरण फॉर्म के अंदर इसे दर्ज कर देना है। आपको नीचे कैप्चा कोड कोड दर्ज करने के बाद आवेदन फॉर्म को फाइनल सबमिट कर देना है।
  5. जब भी आप भविष्य में इस योजना के अंतर्गत अपना कोई भी अपना नया व्यवसाय शुरू करते हैं तो इस परिस्थिति में आपको अंतिम बार MSME के अंतर्गत अपना पंजीकरण पूरा करवाना होता है।
  6. यदि आप का पंजीकरण स्वीकार कर लिया जाता है। तब आपको एमएसएमई का प्रमाण पत्र जारी कर दिया जाता है।
MSME-Udyog-Loan-Aadhaar-Acknowledgement-Form
MSME-Udyog-Loan-Aadhaar-Acknowledgement-Form

इस योजना के जरिए भारत सरकार सभी सूक्ष्म, छोटे और मध्यम वर्गीय उद्योगपतियों को उनके व्यवसाय को बढ़ाने के लिए सहायता प्रदान करने का प्रावधान शुरू किया है। जिससे देश में ओर भी रोजगार के अवसर जरूरतमंदों को प्राप्त हो सके। MSME Udyog Loan Yojana के भारत सरकार स्वरोजगार को बढ़ावा देना चाहती है।

आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत MSME Udyog Loan-

Today’s Press Conference: Finance Minister Nirmala Sitharaman – आज प्रेस कॉन्फ्रेंस में वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण द्वारा घोषित MSME को समर्थन के उपाय:

  • एमएसएमई सहित व्यवसायियों के लिए 3 लाख करोड़ रुपए के संपार्श्विक- मुक्त स्वचालित ऋण
  • स्ट्रेस्ड MSMEs के लिए 20,000 करोड़ अधीनस्थ ऋण
  • फंड ऑफ फंड्स के माध्यम से MSMEs के लिए 50,000 करोड़ रुपये का इक्विटी इन्फ्यूजन
  • MSMEs की नई परिभाषा
  • वैश्विक निविदाएं 200 करोड़ रुपये तक की हैं
  • MSMEs के लिए अन्य हस्तक्षेप
MSME उद्योग के लिए चैंपियन पोर्टल (अपनी शिकायत/सुझाव दर्ज करें)-

Champion Portal – प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने 1 जून 2020 को MSME उद्योग के लिए चैंपियन पोर्टल लॉन्च किया। इस पोर्टल के माध्यम से सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग (MSME) के उद्यमी अपने उद्योग की समस्याओं का निवारण कर सकेंगे। जिसके चलते एमएसएमई उद्योग/व्यवसाय को बढ़ावा मिलेगा और इस उद्योग में काम करने वाले उद्योगपतियों को अपने व्यवसाय को बढ़ाने में कोई परेशानी नहीं होगी। इसके साथ ही उद्योगपतियों को प्रोत्साहन भी मिलेगा, जिसके चलते अधिक लोग अपना खुद का सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग खोल सकें। ताकि देश अपनी उत्पादन क्षमता को और ज्यादा बढ़ा सके और लोगों को भी रोजगार के अवसर प्राप्त होंगे। Champion Portal के अंतर्गत अब समस्याओं और शिकायतों का निवारण 7 दिन के भीतर पूर्ण किया जाएगा।

यह भी पढ़ें: IRCTC – आईआरसीटीसी स्पेशल ट्रेन लिस्ट | ऑनलाइन टिकट बुकिंग

RM-Helpline-Team

Leave A Reply

Your email address will not be published.