[Registration] मेरा पानी-मेरी विरासत योजना 2020 हेतु पंजीकरण

Mera-Pani-Meri-Virasat-Yojana-In-Haryana
Mera-Pani-Meri-Virasat-Yojana-In-Haryana

Mera Pani Meri Virasat Yojana Haryana 2020-: नमस्कार दोस्तों, आज हम आपको इस लेख के माध्यम से हरियाणा सरकार के द्वारा शुरू की गयी “मेरा पानी-मेरी विरासत योजना” की जानकारी देंगे। जल बिना जीवन का अस्तित्व ही नहीं होता हैं ये तो सब जानते हैं। इसलिए जल का संरक्षण बेहद आवश्यक है। हरयाणा सरकार ने किसानों के लिए एक योजना का शुभारंभ करने का ऐलान किया हैं। इस योजना का नाम ‘मेरा पानी-मेरी विरासत योजना’ है। हरियाणा सरकार द्वारा ऐसे किसानों को जोकि धान की फसल की खेती न करते हुए किसी अन्य फसल की खेती करते हैं, उन किसानों को 7000 रूपये प्रति एकड़ प्रोत्साहन राशि के रूप में प्रदान किये जायेंगे।

यह फैसला हरियाणा राज्य सरकार ने पानी के संरक्षण को बढ़ावा देने के लिए ही किया है, ताकि आने वाली पीढ़ी को होने वाली पानी की समस्या से निजात दिलाई जा सके। ये योजना की मुख्य विशेषताओं एवं अन्य जानकारी के लिए इस आर्टिकल को अंत तक ध्यानपूर्वक पढ़ें। यहाँ नीचे हम आपको हरयाणा सरकार द्वारा शुरू की गयी मेरा पानी-मेरी विरासत योजना | धान की बुआई न करने पर किसानों को मिलेगा 7000 रुपये प्रति एकड़ प्रोत्साहन | पंजीयन पोर्टल, दस्तावेज, पात्रता नियम | Mera Pani-Meri Virasat Yojana Haryana Portal की पूरी जानकारी प्रदान कर रहे हैं।

हरियाणा मेरा पानी-मेरी विरासत योजना 2020 क्या है?

Haryana Govt Mera Pani Meri Virasat Yojana – जैसे कि हमने आपको ऊपर बताया कि हरियाणा सरकार ने किसानों के लिए एक योजना का शुभारंभ करने का ऐलान किया हैं, इस योजना का नाम “मेरा पानी-मेरी विरासत योजना” है। हरयाणा सरकार द्वारा ऐसे किसानों को जोकि धान की फसल की खेती न करते हुए किसी अन्य फसल की खेती करते हैं, उन किसानों को 7000 रूपये प्रति एकड़ प्रोत्साहन राशि के रूप में प्रदान किये जायेंगे।

आपको बता दें कि धान की खेती में अधिक पानी की आवश्यकता होती हैं। ऐसे में यदि इसके स्थान पर मक्का, अरहर, उड़द, ज्वार, कपास, बाजरा, तिल और ग्रीष्म मूंग या वैसाखी मूंग की खेती की जाएँ, तो इनमें पानी का खर्च कम होगा। हरियाणा राज्य सरकार ने यह भी घोषणा की है कि वे किसानों के लिए मक्का की बुवाई के लिए आवश्यक कृषि उपकरणों की भी व्यवस्था करेंगे।

योजना का नाम  मेरा पानी-मेरी विरासत योजना
सम्बंधित राज्य  हरियाणा
लांच की तारीख  6 मई 2020
लांच की गई  मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर जी द्वारा
लाभार्थी  राज्य के किसान
संबंधित विभाग  जल संरक्षण विभाग
आधिकारिक वेबसाइट यहाँ क्लिक करें
टोल फ्री हेल्पलाइन  नंबर 1800-180-2117

मेरा पानी-मेरी विरासत योजना हरियाणा की मुख्य विशेषताएं-

Key Features of Mera Pani-Meri Virasat Yojana Haryana – हरियाणा सरकार की मेरा पानी-मेरी विरासत योजना को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य जैसे कि नाम से ही समझ आ रहा हैं, जल का संरक्षण करना है।

  • इस योजना के तहत पानी की बचत कर आने वाली पीढ़ियों के लिए विरासत के रूप में उन्हें ऐसी भूमि उपलब्ध कराई जाएगी। जोकि उनके लिए उपयोगी हो सकेगी।
  • ऐसे किसान जोकि पानी के लिए धान की फसलों को छोड़कर अन्य फसलों पर स्विच करते है तो उन्हें प्रोत्साहित किया जाएगा।
  • प्रोत्साहन राशि के रूप में प्रत्येक ऐसे किसानों को जो धान की खेती को छोड़कर अन्य खेती करते हैं, उन्हें सरकार की ओर से 7000 रूपये प्रति एकड़ मिलेंगे।
  • इसके साथ सरकार ने इस योजना को शुरू करते हुए यह भी ऐलान किया है कि धान की बुवाई की अनुमति ऐसे पंचायती क्षेत्रों के किसानों को नहीं दी जाएगी, जहाँ पर भूजल की गहराई 35 मीटर से अधिक है।
  • इस योजना के तहत दी जाने वाली प्रोत्साहन राशि संबंधित ग्राम पंचायत को ही दी जाएगी।
  • राज्य के ऐसे ब्लॉक जहाँ पर भूजल स्तर काफी कम है उनके अलावा यदि अन्य ब्लॉक के किसान भी धान की बुवाई के स्थान पर अन्य फसलों की बुवाई करते हैं तो वे भी पहले से ही इसकी सूचना देकर प्रोत्साहित राशि प्राप्त करने के लिए आवेदन कर सकते हैं।
  • ऐसे किसान जो धान की जगह अन्य वैकल्पिक फसल उगाने के साथ बहुत कम सिंचाई या ड्रिप सिंचाई प्रणाली को अपनाते हैं, तो उन्हें 80% अनुदान (Subsidy) दिया जाएगा।
हरयाणा मेरा पानी-मेरी विरासत योजना हेतु पात्रता शर्तें-

Eligibility Conditions for Mera Pani-Meri Virasat Yojana – इस योजना का लाभ उठाने के लिए किसानों के पास निम्नलिखित पात्रता मानदंड होना आवश्यक है।

  1. हरियाणा का निवासी: – इस योजना में दी जाने वाली प्रोत्साहन राशि का हकदार केवल हरयाणा राज्य का ही निवासी होगा। क्योकि यह योजना केवल उनके लिए हैं।
  2. धान की खेती करने वाले किसान: – ऐसे किसान जोकि धान की खेती करते हैं और यदि वे उसे छोड़कर अन्य कोई खेती करते हैं तो ही वे इस योजना के लिए पात्र होंगे।
  3. अन्य पात्रता: – राज्य के ऐसे ब्लॉक जहाँ पर भूजल स्तर काफी कम है। उन ब्लॉकर्स के अलावा यदि अन्य ब्लॉक के किसान भी धान की बुवाई के स्थान पर अन्य फसलों की बुवाई करते हैं, तो वे भी पहले से ही इसकी सूचना देकर प्रोत्साहित राशि प्राप्त करने के लिए आवेदन कर सकते हैं।

इसे भी देखें: हरियाणा प्रवासी श्रमिक घर वापसी योजना ऑनलाइन पंजीकरण

मेरा पानी-मेरी विरासत योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज सूची-

Required Documents List for Mera Pani-Meri Virasat Yojana – इस योजना का लाभ उठाने के लिए किसानों को निम्नलिखित दस्तावेजों की आवश्यकता होगी।

  • मूल निवासी प्रमाण पत्र
  • किसान कार्ड / किसान क्रेडिट कार्ड
  • पहचान प्रमाण पत्र
  • आधार कार्ड या वोटर आईडी कार्ड

इसे भी पढ़ें: कोरोना लॉकडाउन – प्रवासी मजदूर और छात्र घर वापसी योजना

हरियाणा मेरा पानी-मेरी विरासत योजना में पंजीकरण/आवेदन कैसे करें?

Mera Pani Meri Virasat Yojana Haryana Registration / Application Process – जल्द ही हरियाणा राज्य सरकार एक वेब पोर्टल भी लांच करेगी, जोकि इस योजना के बारे में आवश्यक जानकारी के साथ विकसित होगा। इसके माध्यम से किसान सरकार द्वारा दी जा रही प्रोत्साहन राशि प्राप्त करने के लिए आवेदन भी दे सकेंगे और इसमें खुद को रजिस्टर कर लाभ प्राप्त कर सकेंगे। इससे किसानों के सामने आने वाली समस्याओं को भी हल करने का प्रयास किया जाएगा।

अतः मेरा पानी-मेरी विरासत योजना (Mera Pani-Meri Virasat Yojana) हरियाणा सरकार ने राज्य के भूजल स्तर को बढ़ाने के लिए शुरू की हैं, ताकि आने वाली पीढ़ियों के लिए जल का संचय करके विरासत के रूप में उनके लिए रखा जा सके और कम जल के उपयोग होने वाले फसलों की खेती को भी बढ़ावा दिया जा सके। अधिक जानकारी के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें।

Mera Pani Meri Virasat Yojana Online Registration-

राज्य के जो इच्छुक लाभार्थी मेरा पानी मेरी विरासत योजना के तहत ऑनलाइन आवेदन / रजिस्ट्रेशन करना चाहते है तो वह नीचे दिए गए तरीके को फॉलो करें:

  1. सबसे पहले आवेदक व्यक्ति को योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  2. ऊपर दिया लिंक पर क्लिक करने के बाद, आपके सामने Mera Pani Meri Virasat Yojana Portal खुल जाएगा।Mera-Paani-Meri-Virasat-Agriculture-Farmers-Welfare-Haryana
  3. इस वेब होम पेज पर आपको ‘New Registration’ के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
  4. इसमें क्लिक करने के बाद, आपके सामने मेरा पानी मेरा विरासत योजना का पंजीकरण फॉर्म खुलेगा।
  5. इस फॉर्म पर आपको अपना Aadhaar Number भरना होगा और फिर ‘Next’ के बटन पर क्लिक करें।
  6. क्लिक करने के बाद, आपको किसान विवरण (Farmer Details) भरनी होगी फिर Total Land Holding & Crop Details भरे।
  7. सभी जानकारी सही से भरने के बाद, आपको “Submit” बटन पर क्लिक करना होगा। इस तरह से आप योजना के तहत अपना आवेदन/पंजीकरण पूरा कर सकते हो।
मेरा पानी मेरी विरासत योजना हेल्पलाइन नंबर:
  • कृषि और किसान कल्याण विभाग
  • पता: कृषि भवन, सेक्टर 21, पंचकूला
  • टेलीफोन नंबर: (0172) 2571-553 / 2571-544
  • फैक्स नंबर: (0172) 2563-242
  • किसान कॉल सेंटर: 1800-180-1551 (टोल-फ्री)
  • ई-मेल आईडी: [email protected] / [email protected]
  • कृषि और किसान कल्याण विभाग की महत्वपूर्ण संपर्क सूची: यहाँ क्लिक करें

यह भी पढ़ें: स्पेशल ट्रेन – प्रवासी श्रमिक मजदूर ऑनलाइन पंजीयन (राज्यवार)

RM-Helpline-Team

Leave A Reply

Your email address will not be published.