कर्नाटक सरकार द्वारा नियोजित स्व-सहायता समूहों के लिए नई ऋण योजना | Self-Help Group Loan Scheme 2018

कर्नाटक सरकार स्व-सहायता समूहों (Self-Help Groups) के सदस्यों के बीच उद्यमशीलता को प्रोत्साहित करने के लिए एक नई ऋण योजना (New Loan Scheme) शुरू करने जा रही है। राज्य सरकार की यह नई योजना इन एसएचजी (SHG) के सदस्यों के बीच उद्यमशीलता गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए स्व-सहायता समूहों को 10 लाख रुपये तक का ऋण प्रदान करेगी। यह योजना स्व-सहायता समूहों की लंबी लंबित मांग के अनुसार है ताकि उन्हें अपनी गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए शून्य ब्याज ऋण प्रदान (Zero Interest Loans) किया जा सके।
सीएम एचडी कुमारस्वामी सड़क विक्रेताओं और छोटे व्यापारियों को मीटर बडी के खतरे से मुक्त करने के लिए 1,000/- रुपये तक एक दिवसीय ऋण प्रदान करने के लिए बदावरा बंधु योजना (Badavara Bandhu Scheme) भी लॉन्च करेंगे। स्व-सहायता समूहों (SHG) के सदस्यों के लिए नई ऋण योजना की योजना कर्नाटक सरकार द्वारा उद्यमी गतिविधियों (Entrepreneurial Activities) को प्रोत्साहित करने के लिए 10 लाख रुपये तक ऋण प्रदान करने की है, पहले 5 लाख रुपये एक इच्छुक शुल्क हैं और शेष 5 लाख रुपये ब्याज दर को आकर्षित करते हैं प्रति वर्ष 4% के दर से।

स्व-सहायता समूहों के लिए कर्नाटक नई ऋण योजना (Karnataka New Loan Scheme for Self-Help Groups)

कर्नाटक राज्य सरकार (Karnataka Stat Govt) द्वारा योजनाबद्ध स्व-सहायता समूहों के लिए इस नई ऋण योजना की महत्वपूर्ण और मुख्य विशेषताएं निम्नानुसार हैं:

  1. स्वयं सहायता समूह के सदस्यों (SHGs Members) में उद्यमिता गतिविधियों को बढ़ावा देने और प्रोत्साहित करने के लिए, सरकार 10 लाख रुपये तक ऋण प्रदान करेगी।
  2. 10 लाख रुपये की कुल ऋण राशि में से सरकार 5 लाख रुपये तक के ऋण के लिए कोई ब्याज (Interest) नहीं लेगी।
  3. 5 लाख रुपये की शेष राशि प्रति वर्ष 4% की ब्याज दर आकर्षित करेगी।

राज्य सरकार स्व-सहायता समूहों (Self-Help Groups) के लिए इस ऋण योजना के लिए नीति दिशानिर्देश तैयार करने पर काम कर रही है। मुख्यमंत्री ने घोषणा की है कि राज्य सरकार जल्द ही विभिन्न जिलों में इस योजना को लॉन्च करेगी। विभिन्न स्व-सहायता समूहों अपने प्रयासों को बढ़ावा देने के लिए ब्याज मुक्त ऋण (Interest Free Loan) की मांग कर रहे थे। यह प्रस्तावित योजना एसएचजी सदस्यों के बीच उद्यमशीलता गतिविधियों को प्रोत्साहित करने के लिए एक प्रगति है।

स्ट्रीट विक्रेताओं के लिए कर्नाटक बदावरा बंधु ऋण योजना (Karnataka Badavara Bandhu Loan Scheme for Street Vendors)-

स्वयं सहायता समूहों (Self-Help Groups) के लिए एक नई ऋण योजना के लॉन्च के अलावा, सरकार सड़क विक्रेताओं और छोटे व्यापारियों (Street Vendors & Small Traders) की मदद करने की भी योजना बना रही है। इस उद्देश्य के लिए, सरकार सड़क विक्रेताओं के हित के बिना एक दिन के लिए 1000 रुपये तक ऋण प्रदान करने के लिए बदावरा बंधु ऋण योजना (Badavara Bandhu Loan Scheme) शुरू करेगी। किसी भी गारंटीकर्ता के लिए कोई आवश्यकता नहीं है और यह सहायता राशि ब्याज मुक्त होगी। राज्य सरकार दिवाली त्यौहार (Diwal Festival) से पहले इस योजना को लागू करने की योजना बना रही है।
यह योजना सड़क विक्रेताओं, छोटे व्यापारियों और फुटपाथ हॉकर समेत शहरी गरीब लोगों (Urban Poor People) को निजी धन उधारदाताओं द्वारा शोषित होने से मुक्त करेगी, जो एक दिन के लिए 2% से 10% ब्याज लेते हैं। अब राज्य भर में लगभग 53,000 लाभार्थियों को उनकी दैनिक सहायता के लिए वित्तीय सहायता (Financial Assistance) दी जाएगी।
कंप्यूटरीकरण के माध्यम से प्राथमिक कृषि सहकारी समितियों (Primary Agricultural Cooperative Societies) के संचालन को सुव्यवस्थित करने के लिए, सरकार एक आम सॉफ्टवेयर (Common Software) के तहत राज्य में 5,300 पेंस लाने की योजना बना रही है। राज्य सरकार ने यह भी सुनिश्चित किया है कि कर्नाटक फार्म लोन छूट योजना (Karnataka Farm Loan Waiver Loan Scheme) के तहत सहकारी क्षेत्र में 9,448 करोड़ रुपये के ऋण के लिए कदम उठाए गए हैं।

उपयोगकर्ताओं, यहां हमने कर्नाटक सरकार द्वारा नियोजित स्व-सहायता समूहों के लिए नई ऋण योजना (New Loan Scheme for Self Help Groups Planned by Karnataka Govt) के बारे में पूरा विवरण प्रदान किया। यदि आपके पास इस पोस्ट से संबंधित कोई प्रश्न है तो नीचे अपनी टिप्पणी सबमिट करने या हमारे टीम के सदस्यों से संपर्क करने में संकोच न करें। रीडर मास्टर  (हिंदी और अंग्रेजी में भारत का पहला विश्वकोष) में आने के लिए धन्यवाद, इस तरह की अधिक कंटेंट के लिए बने रहें।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top