India's Largest Hindi Information Website

[पंजीकरण] जम्मू-कश्मीर विकलांग छात्र छात्रवृत्ति योजना 2019-20

Jammu-Kashmir Disabled Student Scholarship Scheme 2019-20 Registration Form | Check Status & List | J&K मेधावी विद्यार्थियों को 1 लाख की वित्तीय सहायता

Disabled-Student-Scholarship-Scheme-In-J&K
Disabled-Student-Scholarship-Scheme-In-J&K

Jammu-Kashmir Disabled Student Scholarship Scheme 2019-20: नमस्कार दोस्तों, आज हम आपको इस लेख के माध्यम से “जम्मू-कश्मीर विकलांग छात्र छात्रवृत्ति योजना” के बारे में जानकारी देंगे। जम्मू और कश्मीर सरकार ने विशेष रूप से विकलांग लोगों के लिए जेके गवर्नमेंट स्कॉलरशिप स्कीम शुरू करने की घोषणा की है। जिसके तहत वे छात्र-छात्रा जो विशेष रूप से अक्षम हैं या फिर विकलांग हैं। उन्हें सरकार द्वारा 1 लाख रुपए की वित्तीय सहायता छात्रवृत्ति (J&K Govt Scholarship) के रूप में देगी। जैसा की राज्य में धारा 370 और 35 A हट गई है। ऐसे में लोगों को ज्यादा से ज्यादा सहायता मिले इसके लिए सरकार बहुत सी सरकारी योजनाओं पर काम कर रही है।

जम्मू कश्मीर विकलांग छात्रवृत्ति योजना में जो भी छात्र और छात्राएँ है। जिन्होंने मेरिट में अंक प्राप्त किए और वे शारीरिक रूप से विकलांग या फिर अक्षम हैं। उन्हें राज्य सरकार द्वारा 1 लाख रुपए स्कॉलरशिप के रूप में दिये जाएंगे। जिससे वे अपनी आगे की पढ़ाई पूरी कर सकें। जम्मू और कश्मीर विकलांग छात्र छात्रवृत्ति योजना की घोषणा राज्यपाल सत्यापल मालिक ने अंतर्राष्ट्रीय विकलांग दिवस के दिन करी थी। इस लेख में हम आपको J&K Govt Disabled Student Scholarship Scheme के बारे में जानकारी देंगे। कृपया इसके लिए पूरा आर्टिकल अंत तक ध्यान से पढ़ें।

जम्मू कश्मीर विकलांग छात्र स्कॉलरशिप स्कीम की मुख्य बातें

J&K Govt Scholarship Scheme for Specially Abled Students – विकलांगता छात्रवृत्ति योजना का मुख्य उद्देश्य राज्य में प्रतिभाशाली बच्चों को उच्च शिक्षा के लिए प्रोत्साहित करना है। जिससे वे आगे चल कर अपने घर-परिवार का नाम रोशन कर सकें और देश की प्रगति में योगदान दे सकें। इस स्कालरशिप स्कीम की अन्य विशेषताएं निम्न प्रकार से हैं:

  1. विकलांग विद्यार्थी Disabled Student Scholarship Scheme में दी गई वित्तीय सहायता राशि का इस्तेमाल अपने तकनीकी, व्यवसायिक शिक्षा पर कर सकते हैं।
  2. इसके अलावा मेधावी छात्रों को राज्य सरकार अलग से अन्य उपहार भी देगी।
  3. मेधावी छात्र प्रधानमंत्री स्कॉलरशिप स्कीम के लिए भी पात्र हैं अगर वे ऑनलाइन आवेदन करना चाहते है तो।
  4. यह छात्रवृत्ति योजना जम्मू और कश्मीर के विकलांग छात्रों को उच्च शिक्षा के लिए प्रोत्साहित करेगी।
  5. इसके साथ ही केंद्र सरकार जल्द ही जम्मू-कश्मीर में बहुत सी लोक कल्याणकारी योजनाएं शुरू करने जा रही है। जिसकी जानकारी हमने नीचे दी है।

इसे भी पढ़ें: केंद्रीय सरकार ने जम्मू-कश्मीर में शुरू की 85 विकास योजनाएं

J&K Govt विकलांग छात्रवृत्ति योजना 2019-20 पंजीकरण-

Jammu-Kashmir Disabled Student Scholarship Scheme – राज्य सरकार ऐसे विद्यार्थियों को मुख्य विचार धारा में लाना चाहती है। जिससे की वे भी अन्य बच्चों की तरह ही पढ़ लिख कर आगे बढ़ सकें। केंद्र सरकार समय-समय पर इस योजना के प्रचार-प्रसार के लिए जागरूकता अभियान भी चलाएगी।

घोषणा के दौरान राज्यपाल जी ने यह भी कहा की स्कूली शिक्षा को और भी बेहतर बनाया जाएगा। विद्यार्थी आसानी से सीख सकें इसके लिए शिक्षा एप्लिकेशन और ऑनलाइन शिक्षा प्रणाली की सहायता ली जाएगी।

अभी हाल ही में जम्मू और कश्मीर के वित्त मंत्रालय ने व्यापारियों के लिए “मुख्यमंत्री व्यापार हित ब्याज राहत सब्सिडी योजना” शुरू करी थी। जिससे राज्य के उद्योगों और व्यवसायों को बढ़त मिल सके और ज्यादा से ज्यादा उत्पादन प्रदेश में हो सके। इस व्यापार हित ब्याज राहत सब्सिडी योजना के तहत सरकार उन लोगों को जो जम्मू और कश्मीर में उद्योग चलाते हैं या फिर अपना व्यवसाय लगाया हुआ है। इस ऋण सब्सिडी योजना के बारे में अधिक जानकारी के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें।

यह भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर व्यापार हित ब्याज राहत सब्सिडी योजना

Special Scholarship Scheme for Jammu and Kashmir PIB: Click Here

दोस्तों, यहाँ हमने आपको जम्मू-कश्मीर विकलांग छात्र छात्रवृत्ति योजना (Jammu-Kashmir Disabled Student Scholarship Scheme 2019-20) के बारे में पूरी जानकारी प्रदान कर दी है। आशा करते है कि आपको यह जानकारी पसंद आयी होगी। अगर आपको इस पोस्ट से सम्बंधित कोई प्रश्न पूछना है तो नीचे कमेंट सेक्शन में पूछ सकते हो। हम आपकी पूरी सहायता करेंगे। हमारी वेबसाइट www.readermaster.com में आने के लिए धन्यवाद, अधिक अपडेट के लिए बने रहें।

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.