India's Largest Hindi Information Website

Integrated Child Protection Scheme Information-समेकित बाल संरक्षण योजना

समेकित बाल संरक्षण योजना के बारे में सुचना (Information about the Integrated Child Protection Scheme)

समेकित बाल संरक्षण योजना बाल विकास मंत्रालय द्वारा भारत सरकार की योजना है। जिसका उद्देश्य भारत देश में बच्चों के लिए रक्षात्मक वातावरण उपस्तिथ करना है। इस योजना के तहत बच्चों के लिए स्वास्थ्य, पोषण, पुनर्वास, शिक्षण आदि की व्यवस्था की जाती है।

इस योजना के तहत उन बच्चों पर ध्यान दिया जाता है जो सड़क पर कचरा बीनने वाले, बेसहारा, सड़क पर रहने वाले, भीख मांगने वाले, गुमशुदा एक संरक्षण के जरूरतमंद बच्चें। इस योजना के तहत बच्चों के प्रभावकारी तथा कार्यक्रम रूप से सुरक्षा प्रदान करने वाली व्यवस्था के बनावट के राज्य तथा सरकार के दायित्व को पूरा करने में योगदान करना है।

यह योजना बाल अधिकारों की सुरक्षा तथा बच्चे के बेहतर भविष्य के आधारभूत सिधान्तो पर बच्चों की देख रेख अधिनियम 2000, संशोधित अधिनियम , 2006 के अंतर्गत दी गई नियमावली पर आधारित है। इस योजना के तहत कठिन परिस्थितियों में रहने वाले बच्चों के लिए सांविधिक सहायता सेवाएं देने हेतु सरकार के सभी स्तरों पर कार्यशील ढांचों की स्थापना करके, ज्ञान का निर्माण करके, परिवार के स्तर पर बाल संरक्षण के काम में वृद्धि करके, सभी स्तरों पर कौशलता को बढ़ा कर इस लक्ष्यों को प्राप्त करना है।

भारत सरकार द्वारा इस योजना का संचालन 83 शहरों में चल रहा है। इस योजना के तहत यह सुनिश्चित करने के लिए कि बाल संरक्षण पर उचित ध्यान दिया गया है और सेवाओं की गुणत्ता पर्याप्त रही है, यह योजना विशेष रूप से बाल संरक्षण पर सेवा प्रदाता नेटवर्क शुरू करने पर जोर देती है, जो पूरे देश में लागू की जाएगी।

इसमें केंद्र के स्तर पर केंद्रीय परियोजना सहायता इकाई, राज्य और जिला स्तर पर बाल संरक्षण संस्थाएं तथा व्यवहारिक स्तर पर बच्चा गोद देने की सरकारी संसाधन एजेंसियां आदि शामिल हैं।इस योनजा के तहत उन बच्चों की मदद करती है जो मुश्‍कि‍ल हालात में हैं और उन पर ध्यान तथा सहायता दिए जाने की जरूरत है। देश में ऐसे बच्चों के लिए फिलहाल कोई अनुमान उपलब्ध नहीं है।

जिला बाल संरक्षण इकाइयों और राज्य बाल संरक्षण संस्थाओं जैसी संरचनाओं के चालू होते ही इस योजना को लागू करने के लिए तस्वीर ज्यादा स्पष्ट होकर उभरेगी। वे असहाय बच्चों, उनकी असहायता के स्वरूप तथा उनके लिए जरूरी संरक्षण का आकलन करेंगी। बच्चों के लिए वर्तमान में उपलब्ध सेवाओं के बीच संबंध कायम करने तथा राज्य के कार्यक्रमों के दायरे में बच्चों की जरूरतों पर एकतरफा ध्यान देने की दिशा में भी काम करने के लिए इन संरचनाओं की आवश्यक है।

इस योजना के तहत अब तक 14 राज्यों में, 21 राज्य बाल संरक्षण संस्थाएं, 11 बच्चा गोद देने की सरकारी संसाधन एजेंसियां तथा 14 जिला बाल संरक्षण इकाइयां गठित की गई हैं। पूरी तरह लागू होते ही बच्चों के अधिकारों के संरक्षण में जुटे बाल सुरक्षा कर्मियों का करीब 900 सदस्यों का कॉडर तैयार कर रही है।

समेकित बाल संरक्षण योजना के उद्देश्य (Purpose of the Integrated Child Protection Scheme)

@=: समेकित बाल संरक्षण योजना के तहत सबसे पहले गांव, ब्लॉक, जिला, राज्य स्तर पर बॉल संरक्षण संस्थाओं की स्थापना करना।  

@=: इस योजना के तहत बच्चों की देख भाल के दौरन गैर संस्थागत परिवारों पर आधारित देख रेख को बढ़ाना तथा उन्हें मजबूत करना।  

@=: इस योजना के तहत जो बच्चे समस्यां में है उन्हें सेवाएं उपलब्ध कराना तथा आवश्यकताओं का आकलन कर निर्माण करना।  

@=: इस योजना के तहत सभी स्तर पर बाल संरक्षण हेतु भागीदारी को बढ़ाना।  

@=: इस योजना के तहत बाल संरक्षण  सेवाओं में वृद्धि करना तथा इनकी गुणवत्ता एवं पहुंच में बेहतर सुधार लाना।  

@=: इस योजना के  तहत बच्चों की रख वाली करना तथा उनका निरूपण करना।  

@=: इस योजना के तहत सर्विस प्रदाताओं के ज्ञान, क्षमतावद्वर्न को जागरूकता करना।

@=: इस योजना के तहत सेवा नियोजन निर्णय लेने हेतु वेब आधारित डेटाबेस तैयार करना।  

समेकित बाल संरक्षण योजना के लाभ (Benefits of Integrated Child Protection Scheme)

@=: समेकित बात संरक्षण योजना के तहत बच्चों का भविष्य बेहतर बनेगा।  

@=: इस योजना के तहत बच्चों को सुरक्षा का लाभ होगा।  

@=: इस योजना के तहत बेसहारा, कचरा बीन ने वाले तथा गुमसुदा बच्चों को मदद मिलेगी।  

@=: इस योजना के तहत बच्चे को पढ़ाई करने, रहने के लिए घर, खाने के लिए खाना आदि सुविधाएँ उपलब्ध होंगी।  

समेकित बाल संरक्षण योजना के तहत एक चाइल्डलाइन सेवा भी उपलब्ध की है तथा यह चाइल्डलाइन आपातकालीन सेवा चौबीस घंटे उपलब्ध है। जिसके तहत मुश्किल में पड़े बच्चे उपयोग कर सकते है। इस योजना के तहत यह सेवा महिला एवं बाल विकास मंत्रालय का यह कार्यक्रम मुम्बई-आधारित चाइल्डलाइन इंडिया फाउंडेशन द्वारा संपन्न किया जा रहा है।

चाइल्डलाइन हेल्पलाइन नंबर है :-  1098

और अधिक जानकारी के लिए यहाँ पर क्लिक करें >> Click Here

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.