गुजरात अन्ना ब्रह्मा योजना 2023: Gujarat Anna Brahma Yojna, सभी के लिए मुफ्त अनाज

Gujarat Anna Brahma Yojana 2023 Apply | अन्ना ब्रह्मा योजना के तहत सभी के लिए मुफ्त अनाज | Free Ration Scheme in Gujarat List | गुजरात गैर-राशन कार्ड धारकों के लिए मुफ्त अनाज

नमस्कार दोस्तों, आज हम आपको इस लेख के माध्यम से “गुजरात अन्ना ब्रह्मा योजना 2023 (सभी के लिए मुफ्त अनाज)” की जानकारी देंगे। गुजरात सरकार राज्य में COVID-19 लॉकडाउन के दौरान अटके अन्य राज्यों के प्रवासी मजदूरों के लिए अन्ना ब्रह्मा योजना 2023 को लॉन्च करेगी। अब गुजरात की नई अन्ना ब्रह्मा योजना में, सभी गैर-राशन कार्ड-धारक प्रवासी श्रमिकों को खाद्यान्न और अन्य खाद्यान्न बिल्कुल मुफ्त मिलेंगे। यह निर्णय यह सुनिश्चित करने के लिए किया जाता है कि राष्ट्रव्यापी 21 दिन के कोरोनावायरस कर्फ्यू (लॉकडाउन) के दौरान राज्य में कोई भी व्यक्ति भूखा न रहे।

Gujarat Anna Brahma Yojana Registration 2023

नई अन्ना ब्रह्म योजना में उत्तर प्रदेश (यूपी), मध्य प्रदेश (एमपी), बिहार, पश्चिम बंगाल, केरल, तमिलनाडु आदि जैसे अन्य राज्यों के कार्यकर्ता शामिल होंगे। संक्षेप में, वे सभी लोग जो वर्तमान में गुजरात में मौजूद हैं, जो नहीं करते हैं उनके नाम पर राशन कार्ड हैं, अब वे अपनी आजीविका बनाए रखने के लिए मुफ्त राशन प्राप्त कर सकते हैं। गुजरात अन्ना ब्रह्मा योजना, साथ ही कोरोनोवायरस महामारी से निपटने के लिए राज्य सरकार की अन्य पहलों का पूरा विवरण यहां देखा जा सकता है। Gujarat Anna Brahma Yojana 2023 In Hindi | Free Food Grains to Non-Ration Card Holders In Gujarat State | गुजरात गैर-राशन कार्ड धारकों के लिए मुफ्त अनाज की अधिक जानकारी के लिए पूरा आर्टिकल अंत तक ध्यानपूर्वक पढ़ें।

Gujarat-Anna-Brahma-Yojna-Details-In-Hindi

गुजरात अन्ना ब्रह्मा योजना 2023 (गैर-राशन कार्ड धारकों के लिए मुफ्त अनाज)

Gujarat Anna Brahma Yojana (Free Food Grains to Non-Ration Card Holders) – गुजरात की राज्य सरकार अन्य राज्यों जैसे कि यूपी, एमपी, बिहार, पश्चिम बंगाल, केरल, तमिलनाडु, आदि से प्रवासी मजदूरों के लिए अन्ना ब्रह्मा योजना शुरू करेगी। यह योजना इस दृष्टि से महत्वपूर्ण है कि कोरोना वायरस लॉकडाउन से पहले, विभिन्न राज्यों के कई लोग यहां रोजाना की तरह काम कर रहे थे। लेकिन लॉकडाउन में, किसी भी व्यक्ति को काम करने की अनुमति नहीं है और इन प्रवासी श्रमिकों को अब राशन की कमी, आवश्यक वस्तुओं के साथ-साथ पैसे की भी समस्या का सामना करना पड़ रहा है।

तदनुसार, गुजरात सरकार ने उन सभी लोगों को मुफ्त अनाज प्रदान करने के लिए Anna Brahma Yojana 2023 शुरू की है जिनके पास राशन कार्ड नहीं हैं। यह अन्ना ब्रह्मा योजना 4 अप्रैल 2023 से शुरू होगी और जिला प्रशासन ऐसे सभी मजदूरों की सूची तैयार कर रहा है। मुख्यमंत्री विजय रूपानी ने राज्य के गरीब, मजदूर, असंगठित श्रमिकों और निर्माण श्रमिकों के 65 लाख परिवारों के लिए 650 करोड़ रुपये के पैकेज की घोषणा की है।

गुजरात सरकार की पहल कोरोना वायरस महामारी से निपटने के लिए

Gujarat Govt Initiatives To Tackle COVID-19 Coronavirus Pandemic – कोविद 19 कोरोना वायरस की महामारी से निपटने के लिए गुजरात सरकार द्वारा कई पहल की गई हैं:

  • 1,000 रुपये की सहायता: – Anna Brahma Yojana योजना के अंतर्गत राज्य में मजदूरों, असंगठित श्रमिकों, निर्माण श्रमिकों, गृह-सहायकों के परिवारों को अप्रैल महीने के लिए 1,000 रुपये प्रदान किए जाएंगे।
  • बिजली शुल्क माफी: – अब सीएम ने घोषणा की है कि 50 यूनिट की खपत पर 1.50 रुपये बिजली शुल्क लिया जाएगा, जो कि पहले बीपीएल परिवारों के लिए 30 यूनिट था। राज्यों में लघु उद्योगों, कारखानों और MSMEs के लिए अप्रैल के महीने के लिए बिजली बिलों पर निश्चित शुल्क माफ कर दिया गया है।
  • गौशालाओं/ मवेशी तालाबों के लिए वित्तीय सहायता: – गुजरात राज्य सरकार ने गौशालाओं और पशु तालाबों के लिए 30 से 35 करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता की घोषणा की है। इस पहल के तहत, अप्रैल 2023 के लिए प्रति पशु 25 रुपये सभी गौशालाओं और पशु तालाबों को प्रदान किए जाएंगे।
Corona Relief Package – पीएम किसान सम्मान निधि योजना
  • वृद्धावस्था/ विधवा/ विकलांग के लिए अग्रिम पेंशन: – गुजरात सरकार ने वरिष्ठ नागरिकों, विधवाओं, और विकलांग व्यक्तियों सहित पेंशनरों को अग्रिम भत्ते की अनुमति दी है।
  • प्रत्यक्ष लाभ अंतरण: – राज्य सरकार ने 13 लाख से अधिक लोगों को लाभान्वित करने के लिए व्यक्ति के बैंक खातों में 221 करोड़ रुपये जमा किए हैं।
  • कर्मचारियों को पूर्ण वेतन: – गुजरात सरकार ने छोटे और बड़े व्यवसायों और MSME को अपने कर्मचारी के वेतन और उनके मजदूरों को नियमित रूप से पूरे लॉकडाउन अवधि बिना किसी कटौती के भुगतान करने का निर्देश दिया।

गुजरात सरकार ने राज्य में 83 राहत शिविर स्थापित किए हैं, जहां प्रवासी मजदूरों (Migrant Workers) के गरीब परिवारों और अन्य लोगों को भोजन और आश्रय मिल रहा है। कई एनजीओ, संगठन और धर्मार्थ ट्रस्ट भी इस तरह के काम को अंजाम देते हैं और ऐसी परिस्थितियों में सरकार की मदद करते हैं।

इसे भी पढ़ें: PMGKY – प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज 2023 | लॉकडाउन

RM-Helpline-Team

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top