दिल्ली ई-रिक्शा, ऑटो, टैक्सी ड्राइवर को 5000 रुपये की मदद

Delhi e-Rickshaw, Auto, Taxi Driver Rs 5000 Help | Delhi Corona Relief Fund for Poor People Due to Lockdown | दिल्ली कोरोना रिलीफ फण्ड गरीब ऑटो/टैक्सी चालक

Delhi-e-Rickshaw-Auto-Tax-Driver-Assistance
Delhi-e-Rickshaw-Auto-Tax-Driver-Assistance

Delhi e-Rickshaw, Auto, Taxi Driver Rs 5000 Help: नमस्कार दोस्तों, जैसे की आपको मालूम होगा कि देशभर में कोरोना वायरस (COVID 19) महामारी की वजह से देशव्यापी लॉकडाउन लगा हुआ है। वैसे यह लॉकडाउन 14 अप्रैल को समाप्त होना था। परन्तु देश में बढ़ रहे कोरोना वायरस के खतरे को पूरी तरह से रोकने के लिए इसे आगे बढ़ाये जाने के कयास लगाए जा रहे हैं। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने इस लॉकडॉउन को आगे बढ़ने के लिए अपनी सहमति दे दी है। इसके साथ ही उन्होंने यहाँ भी कहा कि जैसे हमने वादा किया था, हम इस संकट की घडी में प्रत्येक गरीब परिवार की हर संभव मदद करेंगे। इसके लिए प्रत्येक पैरा-ट्रांजिट वाहन चालक को 5,000 रुपये देने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है।
विदित है कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सभी गरीब ई-रिक्शा, ऑटो और टैक्सी चालकों को 5,000 रुपये की वित्तीय सहायता देने की घोषणा की थी। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि प्रत्येक ई-रिक्शा, ऑटो, टैक्सी, आरटीवी (RTV) और ग्रामीण सेवा सार्वजनिक वाहन के ड्राइवरों को पांच हजार रुपये दिए जाएंगे। ये रकम लाभार्थी के बैंक खातें में सीधे ट्रांसफर की जाएगी। इस लेख में हम आपको Delhi e-Rickshaw, Auto, Taxi Driver Rs 5000 Help | Delhi Corona Relief Fund for Poor People Due to Lockdown | दिल्ली कोरोना रिलीफ फण्ड की पूरी जानकारी प्रदान कर रहे हैं। कृपया इसके लिए इस लेख को अंत तक ध्यानपूर्वक पढ़ें।

दिल्ली ई-रिक्शा, ऑटो, टैक्सी ड्राइवर को 5000 रुपये की मदद

Delhi e-Rickshaw, Auto, Taxi Driver Rs 5000 Help – लॉकडाउन की वजह से सभी उद्योग-धंधे बंद हो चुके हैं और लोगों का घरों से निकलना बंद हो चुका है। इसकी वजह से सबसे ज्यादा दिक्कत हर दिन मेहनत कर रोजी-रोटी कमाने वालों को हो रही है। इसी को देखते हुए दिल्ली सरकार ने सभी गरीब ई-रिक्शा, ऑटो और टैक्सी चालकों को 5,000 रुपये की वित्तीय सहायता देने का निर्णय लिया है। आज केजीरवाल सरकार ने इस योजना के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। जिसकी मदद से तमाम ऑटो रिक्शा, टैक्सी, टैंपो, स्कूल कैब और ई-रिक्शा चलाने वाले चालकों को आर्थिक मदद मिलेगी।

इसे भी देखें: जन-धन बैंक खातों में पीएम कोरोना सहायता के तहत 1500 रुपये

मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने की थी घोषणा-

आपको बता दें कि Delhi e-Rickshaw, Auto, Taxi Driver Assistance Scheme का ऐलान दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने 2 अप्रैल को किया था। केजरीवाल ने कहा था कि ऑटो और टैक्सी वाले परेशान हैं। इनकी भी सरकार मदद करेगी। सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि प्रत्येक ऑटो, टैक्सी, ई-रिक्शा, आरटीवी (RTV) और ग्रामीण सेवा सार्वजनिक वाहन के ड्राइवरों को पांच हजार रुपये दिए जाएंगे। ये रकम बैंक सीधे उनके खातों में ट्रांसफर की जाएगी।
उस वक्त मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने कहा था कि दिल्ली में इस योजना को लागू करने में एक सप्ताह से 10 दिन के बीच का समय लग सकता है। और आज ठीक दस दिनों के भीतर ही केजरीवाल सरकार ने इस योजना को शुरू कर दिया है।

इसे भी पढ़ें: दिल्ली में अस्थाई राशन कूपन के लिए ऑनलाइन आवेदन करें

दिल्ली के राजस्व मंत्री ने ट्वीट कर दी जानकारी-

Delhi e-Rickshaw, Auto, Taxi Driver Assistance Scheme Details – केजरीवाल सरकार के राजस्व मंत्री कैलाश गहलोत ने इसकी जानकारी एक ट्वीट के माध्यम से दी। कैलाश गहलोत ने अपने ट्वीट में लिखा है, “जैसा कि माननीय सीएम अरविंद केजरीवाल ने वादा किया था। दिल्ली कैबिनेट ने आज प्रत्येक पैरा-ट्रांजिट वाहन चालक को 5,000 रुपये देने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी, ताकि लॉकडाउन के कारण होने वाले वित्तीय संकट को दूर किया जा सके। इसके लिए वैध पीएसवी बैज और ड्राइविंग लाइसेंस दो आवश्यक शर्तें हैं.”


इसके साथ ही दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल जी ने भी ट्वीट कर इस योजना की जानकारी दी। उन्होंने लिखा “दिल्ली में ऑटो, ई-रिक्शा, ग्रामीण सेवा, फट-फट सेवा, टैक्सी चलाने वाले हजारों लोग लॉकडाउन में बेरोजगार हो गए हैं। उनके परिवारों की सहायता के लिए हम प्रति चालक ₹5,000 दे रहे हैं। कल से सभी चालक अपना आवेदन ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट की वेबसाइट पर जमा करा पाएंगे।”


 

Official Website: https://delhi.gov.in/
Delhi Corona Relief Fund: Click Here
यह भी पढ़ें: आयुष्मान भारत योजना में नि:शुल्क COVID 19 उपचार / परीक्षण

RM-Helpline-Team

1 Comment
  1. Susanta.jena says

    Susanta.jena.

Leave A Reply

Your email address will not be published.