India's Largest Hindi Information Website

पशुपालन डेयरींग और मत्स्यपालन विभाग, कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार: डेयरी-कुक्कुट उद्यम पूंजी कोष के लिए आवेदन करें, योजना सहायता, ऋण राशि, और ब्याज दर के लाभ।

dahd.nic.in Dept of Animal Husbandry Dairying & Fisheries: Apply for Dairy-Poultry Venture Capital Fund Benefits of Scheme Aid Loan Amount & Interest Rate

§§ डेयरी विकास के लिए राष्ट्रीय योजना की जानकारी §§

§§ Information Of National Dairy Development Plan §§ 

डेयरी विकास के लिए राष्ट्रीय योजना के तहत डेयरी, मत्स्य पालन विभाग तथा पशुपालन द्वारा भारत सरकार ने साल 2005 – 06 के तहत पोल्ट्री तथा डेरी के लिए वेंचर कैपिटल योजना के तहत इस योजना को शुरू किया था। इस योजना के तहत इस योजना का लक्ष्य छोटी डेयरी फार्मों की स्थापना तथा अन्य कारकों हेतु मदद देने के तहत डेरी क्षेत्र में सरंचनात्मक बदलाव लाना था।

इस योजना के तहत योजना में मध्यावधि मूल्यांकन के तहत इस योजना के तहत कार्यान्वयन की गति में बढ़ोतरी करने के लिए कुछ अनुशंसाएँ की गयी थी। इस योजना के तहत मूल्यांकन अध्ययन की अनुशंसाएँ तथा किसानों, बैंकों तथा राज्य सरकारों के साथ अलग अलग क्षेत्रों से प्राप्त प्रतिनिधित्व पर सोच विचार करते हुए डीएएचडी तथा एफ के तहत नाम डेरी उद्यमिता उन्नति योजना करने के साथ कुछ आवश्यक बदलाव करने का निर्णय लिया गया है।

इस योजना के तहत यह योजना 01 सितम्बर 2010 से जारी किया गया है। इस योजना के तहत सरकार 2020 – 21 तक हर वर्ष 18 करोड़ टन दूध का उत्पादन का लक्ष्य हासिल करने के लिए 17 हज़ार करोड़ रूपये से ज्यादा के खर्च से राष्ट्रीय डेरी योजना को आरम्भ करने की संभावनाओं की जाँच पड़ताल कर रही है। इस योजना के तहत दूध उत्पादन के लिए आने वाले 15 सालों में 4 प्रतिशत की दर से हर वर्ष 50 लाख टन दूध में बढ़ोतरी करने की आशा है।

इस योजना के तहत अंतर्गत सरकार दूध उत्पादन क्षेत्रों में तथा उत्पादन में बढ़ोतरी करने तथा नए संस्था गत ढांचों के जरिये दूध उत्पादन को बाजार तथा प्रक्रमण संसाधन में पहुँचना चाहती है। इस योजना के तहत पशु चारा उत्पादन, नस्ल, ख़ज़िज़ मिश्रण तथा बाई – पास प्रोटीन में बढ़ोतरी करने के लिए संयंत्रों की स्थापना की बात चल रही है। इस  योजना के तहत संगठित क्षेत्रों में उत्पादित बचे हुए दूध का 65 प्रतिशत वसूलने का प्रस्ताव रखा गया है। इस योजना के तहत देश के विश्व बैंक से पैसे लेने के बात चल रही है।

§§ डेयरी विकास योजना के लक्ष्य §§ 

§§ Objective Of Dairy Development Plan §§ 

  • डेयरी विकास योजना के तहत बछड़ा बछिया पालन को प्रोत्साहित करना तथा जिसके तहत अच्छे प्रजनन स्टॉक का संरक्षण किया जा सके।
  • इस योजना के तहत मुख्य रूप से असंगठित क्षेत्र के लिए रोज़गार उत्पन्न करना तथा इसके तहत बुनियादी सुविधाएँ प्रदान करना है।
  • इस योजना के तहत अच्छे तथा स्वच्छ दूध  के लिए आधुनिक डेरी फार्मों की स्थापना में बढ़ोतरी करना है।
  • इस योजना के तहत असंगठित क्षेत्र में संरचनात्मक बदलाव लाना है जिसके तहत दूध का प्रारभिक प्रसंस्करण गाँव स्तर पर ही किया जा सके।
  • इस योजना के तहत व्यावसायिक पैमाने पर दूध संरक्षण के लिए बेहतर तथा पारंपिक टेक्नोलॉजी की उन्नति करना है।

§§ डेयरी विकास योजना का फायदा किसको हो सकता है §§ 

§§ Who can Benefit Dairy Development Plan §§

  1. डेयरी विकास योजना के तहत एक आम नागरिक इस योजना में सभी कारकों के लिए मदद ले सकता है। परंतु सभी कारक के लिए सिर्फ एक बार ही योग्य होगा।
  2. इस योजना के तहत एक ही परिवार के एक से ज्यादा सदस्य को मदद दी जा सकती है। इस योजना के तहत विभिन्न जगहों पर बुनियादी सुविधाएँ के साथ विभिन इकाइयों को स्थापित करेंगे। इस योजना के तहत दो योजनाओं की चारदीवारी के बीच की दुरी कम से कम 500 मीटर होनी चाहियें।
  3. इस योजना के तहत कंपनिया, गैर सरकारी संगठन, किसान, व्यक्तिगत उद्यमी तथा संगठित क्षेत्र तथा असंगठित क्षेत्र के समूह आदि। इस योजना के तहत संगठित क्षेत्र के समूह में स्वयं मदद समूह, दूध महासंघ, दूध संगठन तथा डेयरी सहकारी समितियां आदि युक्त है।

§§ डेयरी विकास योजना के योग्य §§ 

§§ Dairy Development Scheme qualified §§

  • डेयरी विकास योजना के तहत पिछड़े वर्ग तथा सामान्य वर्ग के लिए हिंदी का ज्ञान होना चाहियें।
  • इस योजना के तहत न्यूनतम 11 दिन तक डेरी बिज़नस में ट्रेनिंग होगी।
  • इस योजना के तहत लाभार्थी की उम्र 18 वर्ष से 50 वर्ष के बीच होनी चाहियें।
  • इस योजना के तहत लाभार्थी ग्रामीण इलाकें का रहने वाला होना चाहियें।
  • इस योजना के तहत भूतपूर्व सैनिकों, अनुसूचित जाति तथा विधवा औरतों के लिए हिंदी का व्यावहारिक ज्ञान होना चाहियें।
You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.