आवेदन पत्र – सुकन्या समृद्धि योजना भारत सरकार बेटी का बैंक या डाकघर में खोलें 8.4% ब्याज दर 2018-2019 जमा राशि व ब्याज कैलकुलेटर

Application Form Sukanya Samridhi Yojana Central Govt Scheme Open Account in Bank or Post-Office 8.4 Interest Rate 2018-2019 Deposit Money Calculator


संशोधित सुकन्या समृद्धि योजना खाता नियम 2016 भारत सरकार के अनुसार, योजना खाते में कम से कम 1000 रुपये सालाना जमा करना होता था। केंद्र सरकार ने सुकन्या समृद्धि खाता नियम, 2016 में संशोधन करके इसे और भी आसान बना दिया है। अब इस खाते को खोलने के लिए आपको सालाना 1000 रुपये की बजाय 250 रुपये जमा करना होगा। सरकार के इस कदम से अधिक लोग योजना का लाभ उठाने में सक्षम होंगे।
 

Contents

सुकन्या समृद्धि योजना क्या है?

आप जानते हैं कि सुकन्या समृद्धि योजना खाते पर ब्याज दरें प्रत्येक तिमाही में संशोधित की जाती हैं, जैसे अन्य छोटी बचत योजनाएं और सार्वजनिक भविष्य निधि (पीपीएफ)। जुलाई-सितंबर तिमाही के लिए, केंद्र सरकार ब्याज दर 8.1 प्रतिशत पर तय की गई है। केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने 2018-19 में अपने बजट भाषण में दावा किया था कि 2015 में लॉन्च सुकन्या समृद्धि योजना खाता योजना में, नवंबर 2017 तक देश भर में छोटी लड़कियों के नाम पर 1.26 करोड़ खाते खोले गए थे। इन खातों में 19183 करोड़ रुपये जमा किए गए थे। यह खता लड़की के माता-पिता या अभिभावक द्वारा बेटी के नाम पर खोला जा सकता है। इस योजना के कई महत्वपूर्ण बिंदु हैं जिन्हें आपको जानने की आवश्यकता है जैसे सुकन्या समृद्धि योजना में निवेश कैसे करें और इस योजना के क्या फायदे हैं? साथ ही, इस लेख में पढ़ें स्टेट बैंक ऑफ इंडिया बैंक (एसबीआई) यानी भारतीय स्टेट बैंक में सुकन्या समृद्धि योजना खाता कैसे खोलें?
सुकन्या समृद्धि योजना का बैंक या डाकघर खाता, बेटी के जन्म से 10 साल की उम्र के बीच खोला जा सकता है। जमाकर्ता बेटी के नाम से केवल एक खाता खोल सकता है। माता-पिता या अभिभावक अलग-अलग दो बेटियों का खाता खोल सकते हैं। यदि जुड़वां हैं, तो जन्म प्रमाणपत्र जमा करना होगा। जिसके बाद एक तीसरा खाता खोला जा सकता है।

Ø〉 एसएसवाई खाता खोलने के लिए आवश्यक राशि ==:

सुकन्या समृद्धि योजना का एक खाता 1000 रुपये की प्रारंभिक जमा राशि में खोला जा सकता है। इससे पहले, खाते को प्रति वर्ष न्यूनतम 1000 रुपये (एक हजार सालानााना) जमा करना था जो अब केवल 250 रुपये (ढाई सौ साल सालाना) है। एक वित्तीय वर्ष में, इस सुकन्या समृद्धि योजना खाते में न्यूनतम 250 रुपये और अधिकतम 1 लाख 50 हजार रुपए (एक लाख पचास हजार रुपये) जमा किया जा सकता है। आप खाते में तब तक धन जमा कर सकते हैं जब तक कि बेटी की 14 साल की उम्र पूरी नहीं हो जाती। आप 14 साल की उम्र पूरे होने के बाद खाते में धन जमा नहीं कर सकते हैं।

Ø〉 सुकन्या समृद्धि योजना खाता चलने की प्रक्रिया ==:

माता-पिता तब तक खाते को संचालित कर सकते हैं जब तक कि लड़की की उम्र 10 साल न हो जाये, जिसके बाद बेटी खुद ही खाता संचालित कर सकती है। इसके अलावा, इस सुकन्या समृद्धि योजना के तहत किसी भी डाकघर शाखा और सरकारी बैंक में खाता खोला जा सकता है।

Ø〉 एसएसवाई खाते से पूर्ण धन निकासी की शर्तें ==:

सुकन्या समृद्धि योजना खाते में जमा राशि का केवल 50% लड़की की 18 वर्ष की आयु के पूरा होने के बाद वापस लिया जा सकता है। अगर बेटी की किसी कारणवश मृत्यु हो जाती है तो खाता अभिभावक द्वारा बंद करवा दिया जाएगा और पूरी जमा ब्याज के साथ उनको प्रदान कर दी जाएगी।

Ø〉 सुकन्या समृद्धि योजना खाता परिपक्वता कब होगा ==:

बेटी के खाते खोलने की तारीख से उसके 21 साल पूरे होने पर खाता परिपक्व होगा। अगर लड़की का विवाह 18 साल से 21 साल में हो जाता है तो, शादी की तारीख के बाद खाता बंद हो जाएगा। खाता बंद होने के बाद जमा को ब्याज के साथ पूरी जमा राशि बेटी को दे दी जाएगी।

Ø〉 सुकन्या खाते में आयकर में छूट का लाभ ==:

सुकन्या समृद्धि योजना खाता देश के किसी भी हिस्से में स्थानांतरित या ट्रांसफर किया जा सकता है। सुकन्या समृद्धि योजना के तहत खोले गए खातों को कर से छूट दी जाएगी। इस योजना के तहत खोले गए खातों को आयकर अधिनियम की धारा 80-जी के तहत छूट दी गई है।

Ø〉 अनियमित भुगतान के लिए जुर्माना प्रावधान ==:

यदि खाते में अनियमित भुगतान किया जाता है तो प्रति वर्ष कम से कम 50 रुपये का जुर्माना निर्धारित राशि के साथ लिया जाएगा। पिछले वित्तीय वर्ष के अंत में 18 वर्ष की आयु के बाद 50 प्रतिशत राशि उच्च शिक्षा और विवाह के लिए उपयोग की जा सकती है।

Ø〉 सार्वजनिक भविष्य निधि-पीपीएफ से अधिक ब्याज ==:

सुकन्या समृद्धि योजना में केवल निवेश राशि पर कर की छूट दी गई थी, लेकिन इस बजट में कर को अपनी रुचि और परिपक्वता से छूट भी दी गई थी। इस मामले में, यह सार्वजनिक भविष्य निधि-पीपीएफ के बराबर था, जिसमें कर तीन स्तरों पर है। लेकिन ब्याज के मामले में, सुकन्या समृद्धि योजना पीपीएफ की तुलना में अधिक आकर्षक है। सार्वजनिक भविष्य निधि-पीपीएफ को 7.8 प्रतिशत ब्याज मिल रहा है जबकि सुकन्या समृद्धि योजना में 9.1 प्रतिशत ब्याज है।

Ø〉 इस योजना में बेटियों के नाम पर तीन खाते तक खोले जा सकते हैं ==:

एक व्यक्ति द्वारा अधिकतम दो से तीन खाते खोले जा सकते हैं। इस योजना में दो खातों का प्रावधान है, लेकिन यदि कोई जुड़वां लड़की है तो आपको इस संबंध में जन्म प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना होगा, जिसके बाद आप तीसरा खाता खोल सकते हैं। किसी भी मामले में 3 से अधिक खाते खोले नहीं जा सकते हैं। न्यूनतम राशि खाते में 250 रुपये या अधिकतम 150,000 रुपये के खाते में जमा की जा सकती है।

Ø〉 सरकार द्वारा सुकन्या योजना की ब्याज दर में कमी ==:

इस खाते की कुल अवधि बेटी के 21 वर्ष होने तक है और इस खाते पर ब्याज 8.40% है। हाल ही में, केंद्र सरकार ने छोटी बचत योजनाओं से 0.1 प्रतिशत ब्याज घटा दिया है, जिसके बाद इन खातों पर प्राप्त ब्याज कम हो गया है। इस योजना के तहत भुगतान ब्याज परिवर्तनीय है। इस योजना में, आपको आयकर अधिनियम, 1961 की धारा (सी) के तहत कर छूट दी गई है।

Ø〉 सुकन्या समृद्धि योजना पात्रता और नियम ==:

  • माता-पिता केवल 2 बेटियों का खाता ही खोल सकते हैं, अगर बेटियां जुड़वां हों या तीन हों, तो  अधिकृत अस्पताल प्राप्त किया हुआ जन्म प्रमाण पत्र से ही सबमिट किया जाएगा यदि इसे एसएसवाई योजना में शामिल किया गया हो।
  • यह खाता 10 साल की बेटी की उम्र में भी खोला जा सकता है। इस योजना के तहत, बेटी के नाम पर खाता खोला जा सकता है। जमाकर्ता / अभिभावक एक व्यक्ति होगा, जो एक नाबालिग लड़की की तरफ से धन जमा करेगा। इस सुकन्या समृद्धि योजना के तहत, 10 साल की उम्र के बाद एक बच्चे का खाता खोला नहीं जा सकता है।
  • सुकन्या समृद्धि योजना पूरे भारत में शुरू की गई है और इसलिए यह खाता हस्तांतरणीय है। इस स्थिति में, खाताधारक भारत के किसी भी हिस्से में रह कर खाते का सञ्चालन कर सकते हैं, इसके लिए खाता धारक या बेटी के माता-पिता / अभिभावक को स्थानांतरित होने का सबूत दिखाना होगा। यदि यह नहीं किया जाता है, तो खाता हस्तांतरण के लिए, डाकघर या बैंक को 100 रुपये का जुर्माना देना होगा।
  • प्रति वर्ष 250 रुपये की न्यूनतम राशि जमा करना अनिवार्य है। अधिकतम जमा सीमा ₹ 150000 है यदि न्यूनतम राशि एक वर्ष में जमा नहीं की जाती है, तो ₹ 50 का जुर्माना लगाया जाएगा। बेटी भी धन जमा कर सकती है। खाता धारक Rs 18 साल की उम्र में अपनी शादी या उच्च शिक्षा के लिए 50% की समयपूर्व राशि वापस ले सकता है।
  • जब जमाकर्ता खाते में राशि जमा करने में सक्षम नहीं होता है और पैसा जमा करना मुश्किल होता है, तो खाते को इस स्थिति में बंद कर दिया जाएगा। खाते को बंद करने का कोई तीसरा कारण नहीं माना जाएगा। सुकन्या समृद्धि खाते में आप खाते खोलने की तारीख से 15 साल तक धन जमा कर सकते हैं। खाते की परिपक्वता के बाद किसी भी धन को जमा करने की कोई आवश्यकता नहीं है। यह खाता बेटी की 21 साल तक की उम्र या बेटी की शादी होने तक चालू रहेगा।
  • यदि आप डाकघर के पैसे को दूसरे डाकघर में स्थानांतरित करते हैं, तो यह मुफ़्त होगा। लेकिन डाकघर से बैंक या इसके विपरीत स्थानांतरित करने के बाद, आप को ₹ 100 खर्च करने होंगे और आप साल में केवल एक बार ऐसा कर सकते हैं।
  • यदि कोई दुर्घटना होती है और बेटी की आकस्मिक मृत्यु हो जाती है, तो जमा राशि बेटी के माता-पिता या अभिभावक को ब्याज के साथ दी जाएगी।

सुकन्या समृद्धि योजना के लिए आवेदन कैसे करें

आप बैंक या डाकघर में जाकर सुकन्या समृद्धि योजना के लिए आवेदन कर सकते हैं। आप फॉर्म भरकर तुरंत आवश्यक दस्तावेज जमा करके और प्रारंभिक जमा जमा करके पासबुक प्राप्त कर सकते हैं। नीचे दिए गए लिंक पर जाएं और आवेदन पत्र डाउनलोड करें, इस एप्लिकेशन फॉर्म की तस्वीर भी देखें। आप पीडीएफ फाइल प्रारूप में फॉर्म डाउनलोड कर सकते हैं जिसके बाद आपको इसका प्रिंटआउट लेना होगा।

आवेदन पत्र डाउनलोड करने हेतु यहाँ क्लिक करें

नोट – आप उस फॉर्म को भी प्राप्त कर सकते हैं जहां से आप खाता खोल रहे हैं। 

Ø〉 सुकन्या योजना खाता खोलने के लिए आवश्यक दस्तावेज़ ==:

  • अस्पताल या सरकारी अधिकारी द्वारा प्रदान की गया बेटी का जन्म प्रमाण पत्र।
  • बेटी के माता-पिता या कानूनी अभिभावकों का निवास का प्रमाणपत्र, जैसे पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस, बिजली या टेलीफोन बिल, मतदाता पहचान पत्र, राशन कार्ड या भारत सरकार द्वारा प्रदान किए गया कोई अन्य प्रमाण पत्र जिसमें पूरा पता उल्लेख किया गया है।
  • खाता खोलने के लिए पैन कार्ड या हाई स्कूल प्रमाण पत्र भी मान्य है। खाता धारक भविष्य में भारत में कहीं भी अपना खाता स्थानांतरित कर सकता है।

सुकन्या समृद्धि योजना के तहत प्राधिकृत बैंकों की सूची

इस सुकन्या समृद्धि योजना के तहत बेटी के माता-पिता या कानूनी अभिभावक डाकघर के अलावा निम्नलिखित बैंकों में खाता खोल सकते हैं:

  • स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (भारतीय स्टेट बैंक)
  • विजया बैंक
  • ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स
  • पंजाब और सिंध बैंक
  • यूनियन बैंक ऑफ इंडिया (यूनियन बैंक ऑफ इंडिया)
  • यूको बैंक
  • सिंडिकेट बैंक
  • यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया
  • पंजाब नेशनल बैंक
  • इंडियन ओवरसीज बैंक
  • इंडियन बैंक
  • आईडीबीआई बैंक
  • आईसीआईसीआई बैंक बैंक
  • कैनरा बैंक
  • सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया
  • देना बैंक
  • कॉर्पोरेशन बैंक
  • इलाहाबाद बैंक
  • आंध्र बैंक
  • बैंक ऑफ इंडिया
  • बैंक ऑफ बड़ौदा
  • एक्सिस बैंक

आप नकद फॉर्म में या चेक या डिमांड ड्राफ्ट – डीडी डाकघर खाते को जमा या खोल सकते हैं, या संबंधित बैंक के प्रबंधक को दें जहाँ आप को अपना खाता खोलना है। नेट बैंकिंग या क्रेडिट कार्ड / डेबिट कार्ड से भी लेनदेन किया जा सकता है।

सुकन्या समृद्धि खाता बैलेंस, ब्याज दर और कर लाभ कैसे जांचें

  • खाता खोलने पर, खाता धारक को बैंक से पासबुक मिलती है, जिसमें उसकी जन्मतिथि, खाता संख्या, नाम, पता, खाता खोलने की तारीख, जमा राशि आदि लिखी हुई होती हैं। 
  • धन जमा करते समय या ब्याज और खाता परिपक्व (खाता बंद करने) के समय, पासबुक को डाकघर या बैंक को जमा करना होगा जिस के बाद आप को पूर्ण राशि प्रदान की जाएगी या या आपके कहते में धन जमा कर दिया जायेगा। 
  • यदि आप एक डुप्लिकेट पासबुक बनाना चाहते हैं, तो ₹ 50 का भुगतान बैंक या डाकघर को करना होगा। आप पासबुक में अपनी खाता जानकारी और खाता शेष राशि देख सकते हैं।

Ø〉 एसएसवाई पर ब्याज दर और कर लाभ ==:

सुकन्या समृद्धि खाता भारत की बेटियों के उज्ज्वल भविष्य को सुनिश्चित करता है। कई लाभों के अतिरिक्त, इस योजना में ब्याज दर बहुत आकर्षक है, ताकि बेटी के माता-पिता खाते खोलने को तैयार हो जाएँ। ब्याज दरें तय नहीं की जाती हैं और सरकार समय-समय पर इसे बदल सकती है। प्रारंभ में, ब्याज दर 9.1% पर निर्धारित की गई थी, लेकिन बाद में मार्च 2015 में 9.2% को वित्तीय वर्ष 2015-16 के लिए संशोधित किया गया था। 2016-17 वित्तीय वर्ष के लिए ब्याज दर से 8.6% संशोधित की गई है। ब्याज दर की गणना हर महीने के 10 वें दिन की जाती है। सुकन्या समृद्धि खाता योजना का सबसे बड़ा लाभ यह है कि इसमें कर छूट प्रदान की गई है। सुकन्या समृद्धि योजना में जमा की जाने वाली राशि आयकर अधिनियम की धारा 80 सी के तहत छूट दी गई है। इसी तरह, ब्याज और परिपक्वता तिथि पर प्राप्त राशि पर कोई कर नहीं है।

Ø〉 नागरिकों को सुकन्या समृद्धि योजना के तहत दिए गए लाभ ==:

  • अकाउंट खोलने में आसानी – यह खाता बिना किसी परेशानी के बच्चे के माता-पिता / कानूनी अभिभावक द्वारा खोला जा सकता है। खाता खोलने की प्रक्रिया सरल है।
  • कम जमा राशि – खाते को खोलने के लिए 250 रुपये की राशि निर्धारित की गई है ताकि माता-पिता खाते को आसानी से खोल सकें और प्रति वर्ष न्यूनतम जमा राशि 250 रुपये तय की गई है।
  • उच्च ब्याज दर – इस योजना में उच्चतम ब्याज दर को लागू किया गया है ताकि खाताधारक को लाभान्वित किया जा सके।
  • पैसे जमा करने हेतु साधन – खाताधारक किसी भी तरह से, जैसे नकद, चेक, डिमांड ड्राफ्ट, ऑनलाइन इत्यादि के माध्यम से अकाउंट में पैसे जमा कर सकता है।
  • अकाउंट को चलने की प्रक्रिया – बेटी के सुकन्या समृद्धि अकाउंट का सञ्चालन 10 साल की उम्र तक उसके अभिभावक या माता-पिता कर सकते हैं। 10 साल की उम्र के बाद, वह खुद ही खाता संचालित कर सकता है।
  • कर में छूट – इस योजना को आयकर अधिनियम की धारा 80 सी के तहत पूरी तरह छूट दी गई है। अर्जित ब्याज और परिपक्वता पर भुगतान की गई राशि भी कर मुक्त है।
  • केवल बेटी के लिए भुगतान – इस योजना के प्रावधानों के अनुसार, परिपक्वता राशि केवल उस बेटी को दी जाएगी जिसके नाम से खाता खोला गया है। यह प्रक्रिया सुनिश्चित करने के लिए है कि पैसे बेटी द्वारा ही उपयोग किये जाएँ। 
  • समयपूर्व निकासी – बेटी की 18 वर्ष की आयु के बाद वह अपनी शिक्षा या शादी के लिए 50% राशि अकाउंट से निकल सकती है जब उसे इसकी आवश्यकता हो। 
  • खाता हस्तांतरण – यदि माता-पिता या अभिभावक के स्थान से दूसरे स्थान पर स्थानांतरित होते हैं तो यह अकाउंट भी भारत के किसी भी स्थान / राज्य में स्थानांतरित किया जा सकता है। 

सुकन्या समृद्धि योजना बेटियों के कल्याण के लिए शुरू की गई है ताकि बेटी को शिक्षित किया जा सके और उनकी शादी के दौरान कोई वित्तीय समस्या न हो। आकर्षक ब्याज दर और कर लाभ के कारण, माता-पिता के लिए आपकी बेटी को खाता खोलना भी निवेश के लिए एक अच्छा विकल्प है। किसी भी तरह की सहायता के लिए निकटतम किसी भी राष्ट्रीयकृत बैंक शाखा या डाकघर पर जाएं।

यहां हमने सुकन्या समृद्धि योजना हेतु आवेदन व बैंक / डाकघर में खाता खोलने की पूरी प्रक्रिया प्रदान की है। यदि आपके पास इस पोस्ट से संबंधित कोई प्रश्न है तो नीचे अपनी कमेंट बॉक्स में लिखें। हम आप की समस्या का पूरा निदान करेंगे। अगर आप को यह जानकारी अच्छी लगी तो अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। धन्यवाद्। 

____________________
महत्वपूर्ण सूचना बोर्ड
इस पेज पर और www.ReaderMaster.Com वेबसाइट पर दी गई सभी जानकारी भारतीय कॉपीराइट अधिनियम 1957 – आईआरसीसी – आईटी सेल एक्ट के तहत आरक्षित है। व्यक्तिगत या संगठन लाभ के लिए इस पृष्ठ या वेबसाइट से जानकारी का उपयोग नियमों और विनियमन के तहत एक अवैध और दंडनीय अपराध है। इस पृष्ठ और वेबसाइट पर पूरी जानकारी विभिन्न स्रोतों से और विभाग के अधिकारियों की मदद से ली गई है। अगर आपको कोई लिंक या प्रक्रिया सही नहीं मिल रही है तो कृपया साइट एडमिन या हमारी हेल्पलाइन टीम से संपर्क करें। हमारा सुझाव है कि आप केवल विभागीय व्यक्ति से सहायता लें और सेवा से संबंधित सहायता के लिए किसी को भी कोई पैसा न दें। ​

Leave A Reply

Your email address will not be published.