India's Largest Hindi Information Website

Padho Pardesh Yojana: अल्पसंख्यक पढो परदेश योजना 2020

Alpsankhyak Padho Pardesh Yojana 2020 In Hindi | Check Minority Education Loan Scheme Application Process | पढो परदेश-अल्पसंख्यक शिक्षण योजना इन हिंदी

Alpsankhyak-Padho-Pardesh-Yojana-In-Hindi
Alpsankhyak-Padho-Pardesh-Yojana-In-Hindi

Alpsankhyak Padho Pardesh Yojana 2020: नमस्कार दोस्तों, आज हम आपके लिए सरकार द्वारा अल्पसंख्यकों के लिए शुरू की गयी “पढो परदेश योजना” की सभी जानकारी लेके आएं हैं। आपको बता दे की केंद्रीय सरकार द्वारा गरीब, पिछड़े वर्ग और अल्पसंख्यक समुदाय के छात्रों को उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए “Padho Pardesh Yojana” शुरू की है। इस योजना के अंतर्गत गरीब, पिछड़े वर्ग और अल्पसंख्यक समुदाय के छात्रों को उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए सरकार द्वारा आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी। इस योजना के माध्यम से ये गरीब छात्र अच्छी शिक्षा प्राप्त कर सकेंगे और अपना भविष्य बेहतर बना सकेंगे।

शिक्षा ऋण के लिए ब्याज अधिक हैं। इस प्रकार गरीब, पिछड़े और अल्पसंख्यक समुदायों के उम्मीदवारों को अपने सपनों को पूरा करना मुश्किल लगता है। केंद्र सरकार पढो परदेश योजना के माध्यम से मेधावी छात्रों को शिक्षा ऋण के ब्याज पर सहायता प्रदान करके सहायता करेगी।अल्पसंख्यकों के लिए Minority Pado Pardesh Yojana का शुभारम्भ केंद्र की वर्तमान सरकार प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री श्री मुख़्तार अब्बास नक्वी द्वारा 2013-14 में किया गया था। योजना के अंतर्गत सरकार छात्रों द्वारा लिए गए ॠण के ब्याज दर पर 100% सब्सिडी देगी। अधिक जानकारी के लिए इस लेख को अंत तक ध्यान से पढ़ें।

अल्पसंख्यक पढ़ो परदेश योजना का मुख्य उद्देश्य

Objective of Alpsankhyak Padho Pardesh Yojana – सरकार द्वारा अल्पसंख्यक पढ़ो परदेश योजना को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य गरीब परिवार के छात्रों को आर्थिक सहायता प्रदान करना है, जो अपने आगे की उच्च शिक्षा प्राप्त करना चाहते है। इस योजना के अंतर्गत गरीब, पिछड़े वर्ग और अल्पसंख्यक वर्ग के छात्रों को उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए सरकार द्वारा ऋण प्रदान किया जाएगा। इस योजना की सबसे अच्छी बात यह है की इस योजना के तहत मिलने वाली राशि पर किसी प्रकार का ब्याज नहीं लिया जाएगा। इसका मतलब यह है की इस शिक्षा ऋण पर किसी प्रकार का ब्याज नहीं लिया जाएगा।

योजना का नाम  पढ़ो परदेश  योजना 2020
लॉन्च किया गया  वित्त वर्ष 2013-2014 को
लॉन्च किया  श्री मुख्तार अब्बास नकवी (केंद्रीय अल्पसंख्यक मामलों के राज्य मंत्री)
 नेतृत्व में प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के
निगरानी अल्पसंख्यक मामलों के मंत्रालय द्वारा
समाधान टोल-फ्री हेल्पलाइन 1800-11-2001
आधिकारिक वेबसाइट यहां क्लिक करें
पढो परदेश योजना की मुख्य विशेषताएं-

Key Features of Padho Pardesh Yojana – पढो परदेश योजना की मुख्य विशेषताएं निम्नलिखित हैं।

  • अल्पसंख्यकों के लिए शैक्षिक कल्याण => योजना के निर्माण के पीछे मुख्य उद्देश्य गरीब और अल्पसंख्यक समुदायों से संबंधित छात्रों को शैक्षिक बेहतरी के लिए रियायती ब्याज दरों पर ऋण प्राप्त करने में सहायता करना था।
  • ब्याज दर पर 100% सब्सिडी => शैक्षिक ऋण पर ब्याज दर अधिक है। इसलिए, कई छात्र इन क्रेडिटों को वहन नहीं कर सकते हैं। योजना में जगह के साथ, छात्रों को क्रेडिट पर 100% अनुदान मिलेगा।
  • पाठ्यक्रम की अवधि को कवर करना => योजना की एक और विशेषता यह है कि छात्रों को पाठ्यक्रम की पूरी अवधि के लिए सब्सिडी का लाभ होगा। इस प्रकार, वे पाठ्यक्रम पर ध्यान केंद्रित करने में सक्षम होंगे।
  • आंशिक पाठ्यक्रम भी शामिल हैं => ऐसे कई पाठ्यक्रम हैं जिन्हें भागों में पढ़ाया जाता है, अर्थात् एक निश्चित खंड भारत में पढ़ाया जाता है और शेष विदेशी भूमि में पढ़ाया जाता है। जब तक विदेशी विश्वविद्यालय द्वारा डिग्री प्रदान की जाती है, तब तक उम्मीदवारों को सब्सिडी मिलेगी।
  • लाभार्थियों की संख्या => अब तक, कार्यक्रम 1343 छात्रों के लिए फायदेमंद साबित हुआ है। ये उम्मीदवार अल्पसंख्यक समुदाय के अंतर्गत आते हैं और विदेशी विश्वविद्यालयों में प्रवेश पा चुके हैं।
अल्पसंख्यक पढ़ो परदेश योजना के लिए पात्रता-

Eligibility for Minority Padho Pardesh Yojana – पढ़ो परदेश योजना का लाभ लेने के लिए निम्न पात्रता का होना आवश्यक है:

  • इस योजना के तहत ॠण हेतु आवेदन करने के लिए आवेदक को अल्पसंख्यक समुदाय जैसे (मुस्लिम, सिक्ख, जैन, ईसाई, पारसी, बौद्ध) से सम्बंधित होना चाहिए।
  • आवेदक छात्र द्वारा इस योजना के अंतर्गत अनुमोदित पाठ्यक्रम Phil, PhD, MBA, PG Diploma तथा इस श्रेणी के अन्य कोर्स में दाखिला लेने पर हीं सरकार द्वारा ॠण के ब्याज दर पर सब्सिडी मान्य होगी।
  • छात्र द्वारा विदेश के किसी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी में पढ़ाई के लिए दाखिला लिया गया हो।
  • अल्पसंख्यक वर्ग के वे छात्र जिनके परिवार की सालाना आय 6 लाख रूपए है वे ही इस योजना के अंतरर्गत ॠण के लिए आवेदन कर सकते हैं।
  • इस योजना के अंतर्गत केंद्र सरकार द्वारा नामित बैंक द्वारा ही ॠण लेने पर योजना के नियम लागू होंगे।
  • अल्पसंख्यक वर्ग के छात्रों द्वारा केवल 20 लाख तक के लिए गए ॠण पर हीं योजना के तहत ब्याज दर पर सब्सिडी मान्य हगी।
  • छात्र जो इस योजना के तहत विदेशों में पढ़ाई हेतु ॠण के लिए आवेदन करना चाहता है,उन्हें क़ानूनी तौर पर भारत का नागरिक होना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: प्रधानमंत्री अल्पसंख्यक छात्रवृत्ति योजना 2020 | ऑनलाइन आवेदन

पढ़ो परदेश योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज-

Documents Required for Padho Pardesh Yojana – पढ़ो परदेश योजना में आवेदन के लिए निम्नलिखित दस्तावेज़ों की आवश्यकता होगी।

लोन एप्लीकेशन फॉर्म आधार कार्ड एडमिशन और कोर्स से सम्बंधित पेपर्स
आय प्रमाण पत्र अल्पसंख्यक प्रमाण पत्र बैंक खाते का विवरण

पढो परदेश योजना के तहत ऋण नियम:

Loans Rules under the Padho Pardesh Yojana – योजना के तहत निम्न ऋण नियम हैं।

  • ऋण राशि => कार्यक्रम के नियमों के अनुसार, किसी भी अल्पसंख्यक उम्मीदवार जिन्होंने किसी विदेशी विश्वविद्यालय से शिक्षा की आवश्यकता को पूरा करने के लिए किसी भारतीय बैंक से 20 लाख या उससे कम का क्रेडिट हासिल किया है, को योजना के तहत आवेदन करने के लिए मिलेगा।
  • ब्याज दर => छात्र को पाठ्यक्रम की पूरी अवधि के लिए ब्याज का भुगतान नहीं करना होगा। कोर्स खत्म होने के बाद उन्हें एक अतिरिक्त वर्ष और छह महीने का बफर पीरियड भी मिलेगा, और वे क्रमशः नौकरी छोड़ चुके हैं (जो भी पहले हो)। एक बार यह समय समाप्त हो जाने के बाद, शेष ब्याज और मुख्य क्रेडिट राशि का भुगतान करना होगा।
  • पुनर्भुगतान => पाठ्यक्रम पूरा होने के बाद ही राशि को लेनदार द्वारा चुकाना होता है।
  • भुगतान का तरीका => सभी भुगतान छात्र के खाते में किए जाएंगे। छात्र इंटरनेट बैंकिंग का विकल्प चुन सकता है या ऋण राशि प्राप्त करने के लिए चेक का उपयोग कर सकता है। उन्हें ऋण और ब्याज को उसी तरीके से चुकाना होगा।
  • ऋण अवधि => अभ्यर्थी को ब्याज पर सब्सिडी तब तक दी जाएगी जब तक पाठ्यक्रम जारी रखने के लिए निर्धारित है। कोर्स पूरा होने के बाद, सरकार एक साल या 6 महीने की अवधि के लिए प्रतीक्षा करेगी, उम्मीदवारों को नौकरी मिलने के समय से।
अल्पसंख्यक पढो परदेश योजना के तहत बैंक-

Banks under the Alpsankhyak Padho Pardesh Yojana – योजना के तहत आने वाले बैंक निम्नलिखित हैं।

भारतीय बैंक एसोसिएशन (IBA) कोपरेटिव बैंक (Co-oprative Bank)
प्राइवेट बैंक (Private Bank) पब्लिक सेक्टर बैंक (Public Sector Bank)

और जो कि भारतीय बैंक एसोसियेशन से जुड़ें हों। ऐसे बैंक ही इस योजना के तहत ॠण उपलब्ध करने के लिए मान्य हैं।

इसे भी पढ़ें: प्री-मैट्रिक अल्पसंख्यक छात्रवृत्ति योजना 2020 | अप्लाई ऑनलाइन

पढो परदेश योजना हेतु आवेदन/पंजीकरण प्रक्रिया-

Padho Pardesh Yojana Application/Registration Process – पढो परदेश योजना में आवेदन की प्रक्रिया निम्न प्रकार से है:

  1. प्रक्रिया केवल तभी शुरू की जा सकती है जब उम्मीदवार विदेशी विश्वविद्यालय में प्रवेश प्राप्त कर लेता है।
  2. प्रवेश पत्र के साथ, उम्मीदवार को अपनी पसंद के बैंक से संपर्क करना चाहिए जिसे IBA की मंजूरी मिल गई है।
  3. बैंकर, शिक्षा क्रेडिट दस्तावेज (Education Credit Document) प्रदान करेगा।
  4. आवश्यक दस्तावेजों के साथ ऋण दस्तावेजों को भरने के बाद, सभी महत्वपूर्ण कागजात फॉर्म में संलग्न होने चाहिए।
  5. एक बार फॉर्म भर जाने के बाद, इसे बैंक मुख्यालय और फिर प्रलेखन के लिए संबंधित अल्पसंख्यक कल्याण विभाग को भेजा जाएगा।

अधिक जानकारी के लिए => यहां क्लिक करें

यह भी पढ़ें: सीखो और कमाओ योजना

प्यारे दोस्तों, आपको हमारा आर्टिकल “अल्पसंख्यक पढो परदेश योजना 2020 (Alpsankhyak Padho Pardesh Yojana In Hindi)” कैसा लगा? यदि आपको इससे संबंधित कोई अन्य जानकारी या सवाल हमसे पूछने हों। तो आप नीचे कमेंट के माध्यम से पूछ सकते हैं। हम जल्द ही आपकी सहायता करेंगे। प्रधानमंत्री जी द्वारा शुरू की गयी सभी सरकारी योजनाओं/प्रक्रियाओं की सबसे पहले जानकारी पाने के लिए हमारी वेबसाइट www.readermaster.com के साथ जुड़े रहें। धन्यवाद-

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.